Russia-Ukraine War: यूक्रेन युद्ध से प्रभावित लोगों की सहायता करेगा भारतीय मूल का ब्रिटिश उद्यमी, जानें कैसे करेंगे मदद

Russia Ukraine War रूस और यूक्रेन में चार महीनों से युद्ध चल रहा है। रूसी सेना लगातार हमले कर रही है जिसके चलते कई लोग प्रभावित हुए हैं। इसी के मद्देनजर भारतीय मूल के उद्यमी ने इन लोगों की सहायता का एलान किया है।

Mahen KhannaPublish: Thu, 30 Jun 2022 04:33 PM (IST)Updated: Thu, 30 Jun 2022 04:33 PM (IST)
Russia-Ukraine War: यूक्रेन युद्ध से प्रभावित लोगों की सहायता करेगा भारतीय मूल का ब्रिटिश उद्यमी, जानें कैसे करेंगे मदद

लंदन, प्रेट्र : रूस-यूक्रेन में लगातार चार महीनों से चल रहा युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा है। रूसी सेना लगातार यूक्रेन पर कब्जा करने के लिए बमबारी कर रही है। इस बीच ब्रिटेन में भारतीय मूल के उद्यमी ने इस युद्ध से प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए धन जुटाने का एलान किया है। उद्यमी लार्ड राज लूंबा युद्धग्रस्त यूक्रेन से विस्थापित होकर ब्रिटेन पहुंचे लोगों को दोबारा नया जीवन शुरू करने के लिए करीब 60 हजार पाउंड (करीब 57 लाख) जमा करेंगे। लूंबा ने कहा, 'हम यूक्रेन से विस्थापित महिलाओं और उनके आश्रितों की सहायता करेंगे।

यूक्रेन से ब्रिटेन आए लोगों को देंगे वाउचर

युद्ध से प्रभावित लोगों के प्रति संवेदना जताते हुए लूंबा ने अपने समर्थकों से तत्काल सहायता राशि जुटाने का आह्वान किया है। लूंबा ने बताया कि यूक्रेन से ब्रिटेन आए लोगों को सौ वाउचर दिए जाएंगे, जिससे वे यहां के दुकानों से कपड़े और जरूरत के सामान खरीद सकते हैं। वह यह कार्य लूंबा फांउडेशन के माध्यम से करेंगे। यह संगठन दुनियाभर में विधवा महिलाओं के जीवन सुधार का कार्य करता है। 

ब्रिटेन ने बोस्निया और हर्जेगोविना में सैन्य विशेषज्ञों को भेजा 

रूस-यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच ब्रिटेन ने गुरुवार को कहा कि वह रूसी प्रभाव का मुकाबला करने और नाटो मिशन को मजबूत करने और स्थिरता और सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए बोस्निया और हर्जेगोविना में सैन्य विशेषज्ञ भेजेगा। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जानसन ने कहा कि अलगाववाद और सांप्रदायिकता की आग को भड़काकर रूस, बोस्निया और हर्जेगोविना में पिछले तीन दशकों के लाभ को उलटना चाहता है।

Edited By Mahen Khanna

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept