This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

सऊदी अरब से दूर हो रहा पाकिस्‍तान, ईरान से बढ़ा रहा नजदीकियां

रियाद, पाक आमी चीफ के ईरान दौरे पर बारीकी से नजर बनाए हुए था। सऊदी अरब और ईरान की दुश्‍मनी किसी से छिपी नहीं है। दशकों से इन दोनों देशों के बीच दुश्‍मनी चली आ रही है।

Tilak RajTue, 21 Nov 2017 12:38 PM (IST)
सऊदी अरब से दूर हो रहा पाकिस्‍तान, ईरान से बढ़ा रहा नजदीकियां

इस्‍लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा हाल में तीन दिवसीय दौरे के लिए ईरान गए थे। बाजवा के इस दौरे का मकसद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सैन्य संबंधों को अगले स्तर पर ले जाने की कोशिश के लिए था। पाक सेना प्रमुख के ईरान दौरे ने सऊदी अरब को चौंका दिया है, जिनके साथ इस्लामाबाद के पारंपरिक और करीबी संबंध रहे हैं।

रियाद, पाक आमी चीफ के ईरान दौरे पर बारीकी से नजर बनाए हुए था। सऊदी अरब और ईरान की दुश्‍मनी किसी से छिपी नहीं है। दशकों से इन दोनों देशों के बीच दुश्‍मनी चली आ रही है। इस दौरान पाकिस्‍तान का सऊदी अरब के खेमे में नजर आता रहा है। लेकिन इस्‍लामाबाद के इस कदम से स्‍पष्‍ट है कि अब वह खेमा बदलने की कोशिश कर रहा है।

पाकिस्तान और ईरान में संयुक्त रूप से बैलिस्टिक मिसाइल विकसित करने का समझौता भी रियाद को परेशान कर रहा है। सूत्रों ने इस कदम को पाकिस्तान के एक निश्चित संकेत के रूप में पढ़ा है, क्योंकि ईरान को इस क्षेत्र में पाक के रणनीतिक साझेदार के तौर पर देखा जा रहा है।

सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने तेहरान के अलावा इस्फहान और मषाद की भी यात्रा की थी। उन्‍होंने राष्ट्रपति हसन रोहानी और विदेश मंत्री जावद जारिफ और ईरानी समकक्ष मेजर जनरल मोहम्मद बाघेरी सहित शीर्ष ईरानी नेतृत्व के साथ मुलाकात थी। हालांकि सार्वजनिक रूप से इस यात्रा को द्विपक्षीय सैन्य और रक्षा संबंधों को बढ़ाने के लिए एक पहल के रूप में पेश किया गया था, लेकिन बाजवा की इस यात्रा का असल मकसद रियाद और इस्लामाबाद दोनों को पता है।

ये हुए समझौते
पाकिस्तान और ईरान ने बैलिस्टिक मिसाइल को संयुक्त रूप से विकसित करने के लिए एक समझौता किया। दोनों पक्षों ने संयुक्त सीमा निगरानी और सैन्य गश्ती जैसे मुद्दों पर भी चर्चा की। ड्रोनों से निगरानी और उपयोग पर बातचीत हुई। खाड़ी और अरब सागरों में संयुक्त समुद्री संचालन पर भी बात हुई। जनवरी-फरवरी 2018 में संयुक्त सैन्य अभ्यास व पाकिस्तान में ईरान के सैन्य अधिकारियों के सहयोग से प्रशिक्षण पर भी वार्ता हुई।

यह भी पढ़ें: सऊदी अरब और ईरान में वर्चस्व की लड़ाई, पश्चिम एशिया में गहराया संकट