Security of Chinese Citizens in Pak: चीनी नागरिक की सुरक्षा को लेकर चीन ने पाक से की बात, शहबाज ने दिया भरोसा

पाकिस्‍तान की सरकार ने चीन को भरोसा दिया कि वह अपने मुल्‍क में चीनी नागरिकों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी उपाय करेगी। प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की ओर से सीपीईसी से जुड़ी परियोजनाओं को भी तेजी से पूरा कराने की बात कही गई है।

Krishna Bihari SinghPublish: Mon, 16 May 2022 06:47 PM (IST)Updated: Tue, 17 May 2022 02:08 AM (IST)
Security of Chinese Citizens in Pak: चीनी नागरिक की सुरक्षा को लेकर चीन ने पाक से की बात, शहबाज ने दिया भरोसा

इस्‍लामाबाद, पीटीआइ। चीन के प्रधानमंत्री ली कछ्यांग और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शहबाज शरीफ के बीच सोमवार को हुई पहली बातचीत में पाकिस्तान में कार्यरत चीनी नागरिकों की सुरक्षा बढ़ाने और 60 अरब डालर (467048 रुपये से अधिक) की चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) परियोजनाओं को तेजी से पूरा करने पर जोर दिया गया।

पाक छोड़ रहे चीनी नागरिक

खबरों के अनुसार, पिछले महीने कराची विश्वविद्यालय में आत्मघाती बम हमले के बाद से सीपीईसी परियोजनाओं के लिए पाकिस्तान में तैनात बड़ी संख्या में चीनी कामगारों ने देश छोड़ना शुरू कर दिया है। हमले में चीनी भाषा के तीन शिक्षक मारे गए थे और एक अन्य घायल हो गया था।

हमलों में कई चीनी कर्मियों की मौत

पाकिस्तानी अखबार 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने बताया है कि शरीफ ने टेलीफोन पर हुई बातचीत में ली को पाकिस्तान में काम कर रहे चीनी नागरिकों के लिए 'सुरक्षा बढ़ाने' का आश्वासन दिया। पिछले कुछ वर्षों में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) जैसे कट्टरपंथी समूहों और बलूचिस्तान की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) जैसे संगठन के हमलों में कई चीनी कर्मियों की मौत हो गई।

पाकिस्तानी सेना ने अलग ब्रिगेड का गठन किया

चीनी कर्मियों की सुरक्षा के लिए पाकिस्तानी सेना ने अलग ब्रिगेड का गठन किया है। शरीफ ने ली से कहा कि पाकिस्तान अपने यहां सभी चीनी संस्थानों और नागरिकों के लिए सुरक्षा उपायों को मजबूत करेगा ताकि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकी जा सके। ली ने कहा कि कराची में चीनी नागरिकों पर हाल में हुए हमले से चीन स्तब्ध और आक्रोशित है ।

चीन के अधिकतर शिक्षक स्वदेश लौटे

कराची विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान के विभिन्न हिस्सों में मंदारिन पढ़ाने वाले चीन के अधिकतर शिक्षक स्वदेश लौट गए हैं। हाल ही में हुए आत्मघाती हमले के बाद बीजिंग ने इन शिक्षकों को वापस लौटने की सलाह दी थी।

चीनी शिक्षकों के जाने से लगा झटका

कराची विश्वविद्यालय में कन्फ्यूशियस संस्थान के निदेशक डा. नासिर उद्दीन ने कहा कि चीनी शिक्षकों का जाना मंदारिन सीखने वाले छात्रों के लिए एक बड़ा झटका है। उन्होंने कहा, संस्थान में मंदारिन भाषा सीखने वाले के 500 छात्र हैं। अब हम उनके लिए आनलाइन कक्षाएं आयोजित करने पर विचार कर रहे हैं ताकि वे अपनी पढ़ाई पूरी कर सकें।

चीनी कर्मियों पर हमले की साजिश रचने वाली महिला गिरफ्तार

समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक खुफिया जानकारी के आधार पर पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र में निर्माण परियोजनाओं पर काम कर रहे चीनी कर्मियों पर हमले की साजिश रचने वाली एक महिला को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। गिरफ्तारी की घोषणा बलूचिस्तान प्रांत में आतंकवाद निरोधी विभाग ने की। महिला बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी की सदस्य है।

Edited By Krishna Bihari Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept