G20 Summit: जम्मू-कश्मीर में G20 बैठक का बहिष्कार करेगा पाकिस्तान, चीन-तुर्की और सऊदी अरब से किया संपर्क

G20 Summit भारत जल्द ही कश्मीर में G-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन करने वाला है। इसमें चीन कनाडा अमेरिका जर्मनी जापान तुर्की समेत 20 देशों के राष्ट्राध्यक्ष भाग लेंगे। लेकिन इस बैठक से पाकिस्तान को मिर्ची लगी है। जानिए क्या है कारण ....

Babli KumariPublish: Wed, 29 Jun 2022 02:55 PM (IST)Updated: Wed, 29 Jun 2022 02:55 PM (IST)
G20 Summit: जम्मू-कश्मीर में G20 बैठक का बहिष्कार करेगा पाकिस्तान, चीन-तुर्की और सऊदी अरब से किया संपर्क

इस्लामाबाद, एएनआइ। भारत कश्मीर में जल्द ही जी-20 शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा। इस बैठक में भारत कश्मीर के मुद्दे को उठाएगा और भारत दुनिया को बताएगा कि कश्मीर और कश्मीर के आम लोग पूरी तरह से भारत के लोकतंत्र और संविधान में आस्था रखते हैं। लेकिन पाकिस्तान इस बैठक से बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान अपने करीबी सहयोगियों- चीन, तुर्की और सऊदी अरब से जम्मू-कश्मीर में जी20 बैठक का बहिष्कार करने के लिए पहुंच रहा है।

WLVN एनालिसिस, जियोपॉलिटिक्स, डिफेंस और नेशनल सिक्योरिटी थिंक-टैंक ने ट्वीट किया, 'पाकिस्तान चीन, तुर्की और सऊदी अरब से जम्मू-कश्मीर में G20 बैठक का बहिष्कार करने के लिए कहे।'

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत जम्मू-कश्मीर में G20 के कुछ कार्यक्रमों की मेजबानी करने की योजना बना रहा है। भारत इस साल दिसंबर में G20 की अध्यक्षता ग्रहण करने के लिए तैयार है।

G20 देशों में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, जर्मनी, फ्रांस, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम शामिल हैं।

पाकिस्तान पहले ही प्रस्तावित बैठक को खारिज कर चुका है, आधिकारिक सूत्रों ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून को बताया कि इस्लामाबाद इस मुद्दे पर जी 20 देशों तक पहुंचेगा।

सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान अपनी चिंताओं को व्यक्त करने के लिए विशेष रूप से चीन, तुर्की और सऊदी अरब जैसे देशों से संपर्क करेगा। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि इस्लामाबाद भारतीय योजनाओं का मुकाबला करने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन और जी20 के अन्य सदस्यों से भी बात करेगा।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल को सितंबर 2021 में G20 के लिए भारत का शेरपा नियुक्त किया गया था। विदेश मंत्रालय के अनुसार, भारत 1 दिसंबर, 2022 से G-20 की अध्यक्षता करेगा और 2023 में पहला G20 नेताओं का शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा। G20 शिखर सम्मेलन में भारत के प्रतिनिधित्व का नेतृत्व 2014 से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है।

हाल ही में मार्च में, भारत ने जम्मू-कश्मीर में खाड़ी देशों के एक निवेश सम्मेलन की मेजबानी की। शिखर सम्मेलन में दुबई, यूएई और हॉलैंड सहित विभिन्न देशों के उद्यमी और सीईओ मौजूद थे। इस कार्यक्रम में 36 से अधिक देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। चार दिवसीय कार्यक्रम के हिस्से के रूप में, मनोज सिन्हा, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल के साथ-साथ प्रमुख सचिव, उद्योग और वाणिज्य और अन्य सरकारी अधिकारियों ने उद्यमिता, पर्यटन और आतिथ्य पर ध्यान देने के साथ निवेश के अवसरों का प्रदर्शन किया।

गल्फ इन्वेस्टमेंट समिट में जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 27,000 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव को मंजूरी दी। खाड़ी देशों का जम्मू-कश्मीर में प्रवेश करना पाकिस्तान के लिए एक संकेत है जो कश्मीर के बारे में इस दुष्प्रचार पर जोर दे रहा है कि इसे एक समस्या के रूप में सुलझाया जाना चाहिए और मुस्लिम देशों को इसके तर्क का समर्थन करना चाहिए।

Edited By Babli Kumari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept