पाकिस्तान में नेताओं के अपहरण के खिलाफ आनलाइन अभियान शुरू करेगा बलूच नेशनल मूवमेंट, खास है आज की तारीख

पाकिस्तान में सुरक्षा बलों द्वारा बलूच नेताओं के अपहरण की निंदा करने के लिए बलूच नेशनल मूवमेंट आज एक आनलाइन अभियान शुरू करेगा। यह अभियान शाम 4 बजे से रात 10 बजे के बीच चलाया जाएगा। बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में अपहरण के मामले काफी बढ़ गए हैं।

Achyut KumarPublish: Wed, 29 Jun 2022 03:39 PM (IST)Updated: Wed, 29 Jun 2022 03:39 PM (IST)
पाकिस्तान में नेताओं के अपहरण के खिलाफ आनलाइन अभियान शुरू करेगा बलूच नेशनल मूवमेंट, खास है आज की तारीख

इस्लामाबाद, एएनआइ: बलूच नेशनल मूवमेंट (BNM) ने बुधवार को पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में सुरक्षा बलों द्वारा राजनीतिक कार्यकर्ताओं के जबरन अपहरण की निंदा करने के लिए एक आनलाइन अभियान शुरू करेगा। स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तानी सेना द्वारा ओरनाच खुजदार से अगवा किए गए बीएनएम नेता डा दीन मोहम्मद बलूच के जबरन अपहरण के विरोध में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बीएनएम का #SaveDrDeenMohdBaloch अभियान शाम 4 बजे से रात 10 बजे के बीच चलाया जाएगा। बीएनएम नेता के लापता होने के 13 साल पूरे होने के मौके पर अभियान की शुरुआत की जाएगी। बीएनएम दुनिया के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन कर रहा है।

जर्मनी में बीएनएम ने किया प्रदर्शन

शनिवार को जर्मनी के मुंस्टर में आयोजित एक सार्वजनिक प्रदर्शन में बीएनएम ने अंतरराष्ट्रीय समुदायों से बलूचिस्तान पर पाकिस्तान के बढ़ते अत्याचारों पर ध्यान देने का आह्वान किया। कई प्रदर्शनकारियों ने 'जबरन गायब' होने के खिलाफ नारे लगाए और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों से बलूचिस्तान में पाकिस्तान के अमानवीय व्यवहार पर ध्यान देने का आह्वान किया। क्योंकि बलूच के अधिकार एक आम आदमी के समान हैं। विरोध प्रदर्शन में बलूच रिपब्लिकन पार्टी के सदस्यों ने भी हिस्सा लिया।

  • इससे पहले मई के महीने में, लापता बलूच लोगों के परिवारों ने कराची प्रेस क्लब में पाकिस्तान सरकार और सुरक्षा एजेंसियों के खिलाफ अपने प्रियजनों की सुरक्षित रिहाई की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था।
  • कार्यकर्ता सैमी बलूच (Sammi Baloch) के नेतृत्व में प्रदर्शनकारियों ने कहा कि उनके प्रियजनों को पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने उठा लिया है, लेकिन उनके ठिकाने की घोषणा नहीं की गई।
  • सैमी बलूच ने मानवाधिकार संगठन और मीडिया की भूमिका की आलोचना की, जिन्होंने विरोध में भाग नहीं लिया और न ही इसे कवर किया।
  • पिछले साल, बीएनएम नीदरलैंड जोन ने डैम स्क्वायर एम्स्टर्डम में अपहरण के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और डा दीन मोहम्मद बलूच की सुरक्षित रिहाई की मांग की।
  • उन्होंने अन्य हजार बलूच लोगों की सुरक्षित बरामदगी की भी मांग की, जिन्हें अपहरण कर लिया गया है।

सुरक्षा बलों ने असंतुष्टों को शांत करने के लिए शुरू किया अभियान

बलूचिस्तान में राजनीतिक कार्यकर्ताओं, छात्रों और अन्य बुद्धिजीवियों का गायब होना अब आम बात हो गई है क्योंकि पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने असंतुष्टों को चुप कराने के लिए एक अभियान शुरू किया है। इसका उपयोग पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा उन लोगों को आतंकित करने के लिए एक उपकरण के रूप में किया जाता है जो सेना की स्थापना पर सवाल उठाते हैं या व्यक्तिगत या सामाजिक अधिकारों की तलाश करते हैं। बलूचिस्तान और देश के खैबर-पख्तूनख्वा (Khyber-Pakhtunkhwa) प्रांतों में गायब होने के मामले प्रमुख रूप से दर्ज किए गए हैं।

Edited By Achyut Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept