This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

काबुल में मस्जिद के बाहर धमाका, 12 की मौत, हमले के वक्त पढ़ी जा रही थी जबीउल्ला की मां की मौत के बाद की नमाज

अफगानिस्‍तान अभी भी आतंकी हमलों की आग में झुलस रहा है। काबुल में रविवार को एक मस्जिद के बाहर बम धमाका हुआ जिसमें 12 लोग मारे गए हैं। यह बम धमाका काबुल में ईदगाह मस्जिद को निशाना बना कर किया गया...

Krishna Bihari SinghMon, 04 Oct 2021 12:35 AM (IST)
काबुल में मस्जिद के बाहर धमाका, 12 की मौत, हमले के वक्त पढ़ी जा रही थी जबीउल्ला की मां की मौत के बाद की नमाज

काबुल, एजेंसियां। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में रविवार को मस्जिद के प्रवेश द्वार पर हुए बम विस्फोट में पांच नागरिकों की मौत हो गई। जबकि एएनआइ ने अपुष्ट तौर पर मरने वालों की संख्या 12 और घायलों की संख्या 32 बताई है। यह विस्फोट तब हुआ जब मस्जिद में सत्तारूढ़ तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्ला मुजाहिद की मां की मौत के बाद नमाज पढ़ी जा रही थी। इस विस्फोट की जिम्मेदारी अभी किसी ने नहीं ली है लेकिन शक आतंकी संगठन आइएस पर है।

मामले में तीन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। घटना काबुल की ईदगाह मस्जिद के बाहर की है। विस्फोट के बाद जबीउल्ला ने ट्वीट कर घटना में निर्दोष नागरिकों के मारे जाने की जानकारी दी। विस्फोट में तालिबान के किसी नेता या लड़ाके को नुकसान नहीं हुआ है। पांच नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि तालिबान सरकार के गृह मंत्रालय ने की है। इटली सरकार के सहयोग से काबुल में चल रहे अस्पताल ने चार घायलों के भर्ती होने की पुष्टि की है।

घटना के बाद आसपास का इलाका तालिबान ने घेर लिया और आमजन का आवागमन बंद करा दिया। लेकिन कुछ घंटों बाद घटनास्थल को पूरी तरह से साफ कर दिया गया। विस्फोट से मस्जिद के प्रवेश द्वार को मामूली नुकसान हुआ है। 15 अगस्त को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद से अफगानिस्तान में आतंकी संगठन आइएस के लगातार हमले हो रहे हैं। सबसे बड़ा हमला 26 अगस्त काबुल एयरपोर्ट के नजदीक हुआ था।

बता दें कि उस हमले में 169 अफगान और 13 अमेरिकी सैन्यकर्मी मारे गए थे। अफगानिस्तान की सत्‍ता पर तालिबान की वापसी के बाद से आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के हमले बढ़ गए हैं। अधिकांश हमले तालिबान लड़ाकों को निशाना बनाकर किए गए हैं। हाल के दिनों में हुए इन आतंकी हमलों ने दोनों चरमपंथी समूहों तालिबान और इस्‍लामिक स्‍टेट के बीच व्यापक टकराव की संभावना को बढ़ा दिया है।

अफगानिस्‍तान के पूर्वी प्रांत नंगरहार में इस्‍लामिक स्‍टेट काफी मजबूत है। यह तालिबान को अपना कट्टर दुश्मन मानता है। इस्‍लामिक स्‍टेट ने तालिबान के खिलाफ कई हमलों का दावा किया है। अब तक इस्‍लामिक स्‍टेट हमलों का केंद्र प्रांतीय राजधानी जलालाबाद थी। जलालाबाद में इस्‍लामिक स्‍टेट की ओर से कई हमले किए जा चुके हैं जिनमें बड़ी संख्‍या में लोगों की मौतें हुई हैं।

असल में तालिबान की वापसी के बाद अफगानिस्‍तान में हालात और खराब हो गए हैं। हाल ही में पाकिस्तान में मौजूद संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी की हाई कमिश्नर फिलिपो ग्रांडी ने कहा था कि अफगानिस्तान में मानवीय स्थितियां बहुत ही खराब हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को तत्काल मदद के लिए आगे आना चाहिए। आलम यह है कि अफगानिस्तान की आर्थिक व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। लोग रोजी रोटी के संकट से जूझ रहे हैं।

Edited By: Krishna Bihari Singh

Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner