This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

फेसबुक और ऑस्ट्रेलिया सरकार के बीच बढ़ी तकरार, न्यूज प्रतिबंध पर राजनेताओं सहित इन लोगों ने जताई आपत्ति

ऑस्ट्रेलिया में न्यूज दिखाने के बदले पैसा देने के नए कानून से फेसबुक ने सभी समाचार वेबसाइटों की खबरें पोस्ट करने पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके बाद कई राजनेताओं और एनजीओ के तरफ से प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। पढ़ें पूरी खबर।

Pooja SinghThu, 18 Feb 2021 12:05 PM (IST)
फेसबुक और ऑस्ट्रेलिया सरकार के बीच बढ़ी तकरार, न्यूज प्रतिबंध पर राजनेताओं सहित इन लोगों ने जताई आपत्ति

सिडनी, रॉयटर्स। ऑस्ट्रेलिया में सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक और सरकार के बीच गतिरोध बढ़ गया है। गुरुवार को फेसबुक ने नए कानून के विरोध में अपने प्लेटफॉर्म पर न्यूज दिखाने और शेयर करने पर प्रतिबंध लगाया दिया। जिसके चलते कई आपातकालीन सेवाएं भी प्रभावित हुई। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया में न्यूज दिखाने के लिए पैसा देने के नए कानून से नाराज फेसबुक ने सभी समाचार वेबसाइटों खबरें के पोस्ट करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके बाद मौसम, राज्य स्वास्थ्य विभाग सहित कई क्षेत्र प्रभावित हुए। फेसबुक के इस कदम की चारों तरफ आलोचना भी हो रही है। लगातार एकेडमिक, राजनेताओं और कई एनजीओ के तरफ से प्रतिक्रिया भी सामने आ रही हैं।

ऑस्ट्रेलिया में फेसबुक की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचने का खतरा

ऑस्‍ट्रेलियन ट्रेसर जोसेफ फ्राइडेनबर्ग (AUSTRALIAN TREASURER JOSH FRYDENBERG) ने कांफ्रेंस करते हुए कहा कि फेसबुक द्वारा लिया गया यह फैसला काफी गलत है। ऐसा करने से ऑस्ट्रेलिया में फेसबुक की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंच सकता है। वहीं सेव दा चिल्डर्न ऑस्ट्रेलिया (SAVE THE CHILDREN AUSTRALIA) के सीइओ पॉल ने अपने बयान में कहा कि फेसबुक के माध्यम से उनका संगठन बच्चों की मदद करने वाले लोगों से बातचीत करता था। साथ ही  बच्चों की मदद के लिए धन जुटाने के लिए इस माध्यम का उपयोग किया जाता था। फेसबुक द्वारा लिए गए इस निर्णय के बाद उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 

वहीं फर्स्ट नेशन मीडिया ऑस्ट्रेलिया चेयर डोट् वेस्ट (FIRST NATIONS MEDIA AUSTRALIA CHAIR DOT WEST) ने अपने ताजा बयान में बताया कि फेसुबक स्वदेशी सामुदायिक प्रसारकों के लिए विशेष महत्वपूर्ण है।  ऐसे में उन्हें भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 

बता दें कि समाचार मालिकों और सांसदों द्वारा फेसबुक के इस कदम की कड़ी आलोचना हो रही है। इनकी तरफ से कहा गया है कि कोरोनो वायरस महामारी और ऑस्ट्रेलिया में ग्रीष्मकाल में आग लगने की घटनाओं के बीच आधिकारिक स्वास्थ्य और मौसम विज्ञान के पन्नों को भी हटा दिया गया है। इससे आम लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Edited By: Pooja Singh