पेगासस बनाने वाली NSO अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, कहा- महीनों पहले बन चुकी थी कंपनी से जाने की योजना

पेगासस स्पाईवेयर को तैयार करने वाली साइबर सुरक्षा कंपनी एनएसओ के अध्यक्ष एशर लेवी ने इस्तीफा दे दिया है। इस बीच उन्होंने पेगासस से जासूसी को लेकर इजरायल और दुनिया के कई अन्य देशों में भड़के हंगामे को इस्तीफे की वजह मानने से इन्कार कर दिया।

Monika MinalPublish: Wed, 26 Jan 2022 04:13 AM (IST)Updated: Wed, 26 Jan 2022 04:13 AM (IST)
पेगासस बनाने वाली NSO अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, कहा- महीनों पहले बन चुकी थी कंपनी से जाने की योजना

येरूशलम, एपी। पेगासस स्पाईवेयर को तैयार करने वाली साइबर सुरक्षा कंपनी एनएसओ के अध्यक्ष एशर लेवी ने इस्तीफा दे दिया है। इस बीच, उन्होंने पेगासस से जासूसी को लेकर इजरायल और दुनिया के कई अन्य देशों में भड़के हंगामे को इस्तीफे की वजह मानने से इन्कार कर दिया। लेवी ने कहा, 'कंपनी से मेरे जाने की योजना महीनों पहले बन गई थी। हालिया उथल-पुथल से मेरे इस्तीफे का कोई लेना देना नहीं है।' 

इजरायल में लोगों की जासूसी मामले की संसदीय जांच की मांग

इसी माह इजरायल में सांसदों ने पुलिस द्वारा नागरिकों पर इस स्पाइवेयर के कथित इस्तेमाल की संसदीय जांच की मांग की। हिब्रू भाषा के अखबार कैलकलिस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में पुलिस ने तत्कालीन प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल नेताओं व आम नागरिकों की जासूसी के लिए एनएसओ के बनाए स्पाइवेयर पेगासस का इस्तेमाल किया।

एपल ने ठोका मुकदमा

दो माह पहले अमेरिका की दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी Apple ने पेगासस बनाने वाली कंपनी NSO ग्रुप पर मुकदमा ठोका है। कंपनी का कहना है कि एनएसओ ग्रुप ने पेगासस के माध्यम से आईफोन यूजर्स की जासूसी की है। कंपनी ने एनएसओ पर प्रतिबंध लगाने की मांग भी की है। बता दें कि भारत में भी पेगासस जासूसी केस को लेकर जांच चल रही है। डिवाइस का इस्तेमाल न करें। इससे हमारे यूजर्स का निजी डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा। कंपनी ने आगे कहा है कि पेगासस के जरिए 1.65 बिलियन यूजर्स की जासूसी की गई है, जिसमें एक बिलियन से ज्यादा आईफोन यूजर्स शामिल हैं।

एपल ने यह भी कहा कि कंपनी के डिवाइस सुरक्षित हैं, लेकिन प्राइवेट कंपनियां ऐसे टूल बना रही हैं, जो काफी खतरनाक हैं। वहीं, NSO ग्रुप ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। ग्रुप ने कहा कि इसके साफ्टवेयर का इस्तेमाल आतंकवाद और अपराध पर लगाम लगाने के लिए किया जाता है।

Edited By Monika Minal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept