चीन के शहरों में कड़े लाकडाउन के बीच भोजन की कमी, सोशल मीडिया पर लोगों ने जाहिर किया रोष

चीन में कड़े लाकडाउन के चलते देश के लाखों लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। शीआन शहर में 13 मिलियन लोगों को खाने की कमी और आपूर्ति ने होने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है।

Geetika SharmaPublish: Thu, 20 Jan 2022 10:59 AM (IST)Updated: Thu, 20 Jan 2022 01:20 PM (IST)
चीन के शहरों में कड़े लाकडाउन के बीच भोजन की कमी, सोशल मीडिया पर लोगों ने जाहिर किया रोष

बीजिंग, एएनआइ। चीन में कोरोना की रोकथाम के लिए कड़े लाकडाउन के चलते देश के लाखों लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। चीन के स्थानिय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना महामारी के दो सालों में चीन सरकार लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने में नाकामयाब रही है। पिछले साल दिसंबर से शीआन शहर में बढ़ते मामलों के चलते कठोर लाकडाउन लगाया गया है। 13 मिलियन लोगों के इस शहर में खाने की कमी और आपूर्ति न होने के कारण गंभीर रोगियों के साथ लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है।

भुखमरी की कगार पर शीआन

इसके साथ ही शीआन शहर में कई लोगों ने आनलाइन शिकायत कर रहे हैं कि वे एक दिन में एक कटोरी दलिया खाकर अपना गुजारा कर रहे थे और वह भुखमरी की कगार पर थे। लोगों ने सोशल मीडिया पर दावा किया कि भोजन की कमी होने के बाद भी लोगों को अपने घर के परिसर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी जा रही है। एक यूजर ने वीबो प्लेटफार्म पर लिखा कि हम कैसे रहें? हम क्या खाएं? कुछ दिन पहले हमे किराने का सामान खरीदने के लिए एक बार बाहर जाने की अनुमति थी, लेकिन अब इसे भी रद्द कर दिया गया है। सभी आनलाइन किराना ऐप पहले से बुक हैं या डिलीवर नहीं कर रहे हैं। इसके साथ ही 2020 में कोरोना महामारी का केंद्र माने जाने वाले एक अन्य चीन शहर वुहान को भी इसी तरह के लाकडाउन के तहत रखा गया था। कई महीनों के लिए लगभग 11 मिलियन लोग प्रतिबंधित और अपने घरों में कैद थे।

कई शहरों में पूर्ण लाकडाउन से लोग परेशान

वुहान के बाद 13 मिलियन लोगों के शहर शीआन का लाकडाउन चीन का अब तक का सबसे बड़ा लाकडाउन है। वुहान की तरह शीआन शहर भी अब चीन की ऊपर से नीचे की राजनीतिक व्यवस्था का खामियाजा भुगत रहा है। सोशल मीडिया पर एक यूजर ने लिखा कि कोविड-19 के अलावा आप किस भी चीज से मरे किसी को परवाह नहीं है। हेनान के गुशी प्रांत में केवल एक एसिंप्टोमेटिक और एक सिंप्टोमेटिक मामले सामने आने के बाद लगभग 1 मिलियन लोगों के घर से और शहर से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया। ज़ुचांग में भी इसी तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं, जहां युझोउ शहर के 10 लाख निवासी लाकडाउन में हैं। आन्यांग शहर में 58 कोरोना के मामले सामने आने के बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया जबकि तियानजिन में कोरोना के 21 मामले सामने आने के बाद 14 मिलियन लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई।

भोजन की आनलाइन खरीददीरी पर भी रोक

इस बीच 8 जनवरी 2022 को शीआन शहर के लोगों के एक आश्चर्यचकित घटना में सरकार की ओर से महामारी की रोकथाम के लिए नियमों के अनुसार हेमा फ्रेश फूड डिलीवरी ऐप ने आनलाइन खरीददीरी पर रोक लगा दी। अलीबाबा समूह की हेमा जियानशेंग ऐप शीआन शहर के कई जिलों में भोजन पहुंचाने वाली कुछ किराने की दुकानों में से एक थी। अधिकारियों ने दावा किया कि सुपरमार्केट की कई शाखाओं में स्वच्छता नियमों का उल्लंघन करने की सूचना मिली है। इस पर कई लोगों ने सोशल मीडिया पर अपना रोष जाहिर किया था।

Edited By Geetika Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept