This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

WHO के सलाहकार ने कहा, कोरोना से प्रभावित हो सकती दुनिया की दो तिहाई आबादी

WHO के सलाहकार का कहना है कि चीन में फैला कोरोना वायरस दुनिया की दो तिहाई आबादी को प्रभावित कर सकता है। सभी को इससे बचाव के उपाय करने होंगे।

Vinay TiwariFri, 14 Feb 2020 02:28 PM (IST)
WHO के सलाहकार ने कहा, कोरोना से प्रभावित हो सकती दुनिया की दो तिहाई आबादी

बीजिंग। चीन में फैला कोरोना वायरस विश्व की दो तिहाई आबादी को नुकसान पहुंचा सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के सलाहकार ने नए कोरोना वायरस के प्रसारण पर नजर रखने वाले लोगों को चेतावनी दी है कि दुनिया की दो तिहाई आबादी कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकती है। गुरूवार तक वुहान में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 65 हजार 213 तक पहुंच गई थी जबकि मरने वालों की संख्या 1486 तक पहुंच गई है।

ब्लूमबर्ग और स्पूतनिक की रिपोर्ट के अनुसार जिस तरह से अब दुनिया के बाकी देशों में कोरोना के मरीज पाए जा रहे हैं उससे यही लग रहा है कि ये दुनिया की दो तिहाई आबादी को अपनी चपेट में लेगा। अभी तक इसका केंद्र सिर्फ वुहान और हुबेई प्रांत ही थे मगर अब इस वायरस से दुनिया के बाकी देशों के लोग भी प्रभावित हो रहे हैं। कुछ देशों में तो इस वायरस के शिकार मरीजों की मौत भी हो चुकी है। जिससे वहां पर भी इसके स्थिति गंभीर हो रही है।

फ्लोरिडा विश्वविद्यालय में एक शीर्ष संक्रामक रोग वैज्ञानिक और सेंटर फॉर स्टेटिस्टिक्स एंड क्वांटिटेटिव इन्फेक्शस डिसीज के सह-निदेशक इरा लोंगिनी ने सुझाव दिया कि चीन के सख्त रोकथाम उपायों के जरिए बीमारी के प्रसार को धीमा किया जा रहा है। शोधकर्ता ने कहा कि वुहान कोरोना वायरस पूरे चीन और उसके बाहर तक पहुंच चुका है इससे स्थिति गंभीर हो रही है।

इरा लोंगिनी का अनुमान, यह दर्शाता है कि यदि किसी एक व्यक्ति को ये वायरस प्रभावित करता है तो उससे आमतौर पर 2-3 अन्य लोगों को भी ये वायरस प्रभावित करता है। इससे ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस वायरस से अरबों लोगों के संक्रमित होने की संभावना है। वैज्ञानिक ने दावा किया कि भले ही इस वायरस को रोकने में 50 प्रतिशत तक सफलता मिल जाए मगर इसके संक्रमण को रोकने में अभी तक पूरी तरह से कामयाबी नहीं मिली है।

उनका कहना है कि वायरस दुनिया की एक तिहाई आबादी को संक्रमित कर सकता है। हांगकांग विश्वविद्यालय के एक स्वास्थ्य प्रोफेसर गेब्रियल लेउंग ने यह भी अनुमान लगाया है कि यदि इस पर नियंत्रण नहीं किया गया तो दुनिया की लगभग दो-तिहाई आबादी इससे प्रभावित जरूर होगी। ये वायरस इतनी आबादी को अपनी चपेट में जरूर ले लेगा।