जापान सागर में युद्धपोतों के साथ अभ्यास कर रहा चीन

कम्युनिस्ट पार्टी के समाचारपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि यह मिशन टाइप 055 श्रेणी के पहले विध्वंसक पोत ल्हासा के साथ किया जा रहा है। ल्हासा के साथ लुयांग-श्रेणी के टाइप 052डी विध्वंसक चेंगदू और टाइप 903 आयलर डोंगपिन्घु भी हैं।

Sanjeev TiwariPublish: Thu, 16 Jun 2022 08:57 PM (IST)Updated: Thu, 16 Jun 2022 08:57 PM (IST)
जापान सागर में युद्धपोतों के साथ अभ्यास कर रहा चीन

बीजिंग, एपी। चीन इस समय जापान सागर में अपने युद्धपोतों के साथ सैन्य अभ्यास कर रहा है। इस अभ्यास में उसका एक सबसे बड़ा युद्धपोत भी शामिल है। सरकारी मीडिया ने गुरुवार को चीनी नौसेना के बढ़ते दबदबे को दिखाते हुए यह जानकारी दी। कम्युनिस्ट पार्टी के समाचारपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि यह मिशन टाइप 055 श्रेणी के पहले विध्वंसक पोत ल्हासा के साथ किया जा रहा है। ल्हासा के साथ लुयांग-श्रेणी के टाइप 052डी विध्वंसक चेंगदू और टाइप 903 आयलर डोंगपिन्घु भी हैं। इधर, जापान के रक्षा मंत्रालय ने बताया कि नागासाकी में फुकुए द्वीप से 200 किलोमीटर दूर तीन पोत देखे गए। ये पोत पूर्व में जापान सागर की ओर बढ़ रहे थे। इनकी गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है।

अखबार ने जापान के रक्षा मंत्रालय के हवाले से बताया कि इसके साथ लुयांग श्रेणी के टाइप 052डी विध्वंसक चेंगदू और टाइप 903 ऑयलर डोंगपिंगू भी हैं। जापान सागर जापानी द्वीपसमूह सखालिन द्वीप, कोरियाई प्रायद्वीप और रूस के सुदूर पूर्वी मुख्य भूभाग के बीच चीन के उत्तरी दिशा में स्थित है।

जापान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रविवार को नागासाकी में फुकु द्वीप से करीब 200 किलोमीटर पश्चिम में तीन जहाजों को जापान सागर की ओर पूर्व में जाते देखा गया। चीन की नौसेना बहुत तेज गति से जहाजों का निर्माण कर रही है और अब जंगी पोतों के हिसाब से दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना है।

ऐसा माना जा रहा है कि चीन ने टाइप 055 विध्वंसक पोतों की पहली बैच के पांच पोतों को बेड़े में शामिल कर लिया है। सैन्य विशेषज्ञों के हवाले से ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने बताया कि विध्वंसक पोत ताइवान पर हमले की सूरत में विदेशी हस्तक्षेप को रोकने के मकसद से की गई सैन्य तैयारियों का हिस्सा है।

Edited By Sanjeev Tiwari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept