Sri Lanka Economic Crisis: श्रीलंका की मदद के लिए चीन ने की भारत की प्रशंसा, गोटाबाया राजपक्षे के आरोपों को नकारा

चीन ने बुधवार को कोलंबो को अपने सबसे खराब वित्तीय संकट से निपटने में मदद करने के लिए महान प्रयास करने के लिए भारत की प्रशंसा की यहां तक ​​कि उसने श्रीलंकाई राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे की टिप्पणी का खंडन किया है।

Arun Kumar SinghPublish: Wed, 08 Jun 2022 06:27 PM (IST)Updated: Wed, 08 Jun 2022 06:27 PM (IST)
Sri Lanka Economic Crisis: श्रीलंका की मदद के लिए चीन ने की भारत की प्रशंसा, गोटाबाया राजपक्षे के आरोपों को नकारा

बीजिंग, प्रेट्र। चीन ने बुधवार को कोलंबो को अपने सबसे खराब वित्तीय संकट से निपटने में मदद करने के लिए महान प्रयास करने के लिए भारत की प्रशंसा की। यहां तक ​​कि उसने श्रीलंकाई राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे की उस टिप्पणी का खंडन किया, जिसमें कहा गया था कि बीजिंग ने पाकिस्तान सहित दक्षिण एशिया से अपना रणनीतिक ध्यान दक्षिण पूर्व एशिया में स्थानांतरित कर दिया है। क्षेत्र अभी भी इसकी प्राथमिकता बना हुआ है।

आर्थिक उथल-पुथल से जूझ रहा श्रीलंका

1948 में ब्रिटेन से आजादी के बाद से श्रीलंका वर्तमान में अभूतपूर्व तरीके से आर्थिक उथल-पुथल से जूझ रहा है। श्रीलंका के आर्थिक संकट ने राष्ट्रपति राजपक्षे के इस्तीफे की मांग करने वाले प्रदर्शनकारियों के साथ राजनीतिक अशांति पैदा कर दी है।

चीन ने की भारत की तारीफ

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने यहां एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि हमने यह भी देखा है कि भारत सरकार ने इस पहलू में बहुत प्रयास किए हैं। हम इसे स्वीकार करते हैं। जब द्वीप राष्ट्र सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है तो इसकी मदद करने में कई देश झिझक रहे थे। उन्होंने कहा कि हम इन विकासशील देशों को इस स्थिति से उबरने में मदद करने के लिए श्रीलंका और अन्य देशों की मदद करने के लिए भारत और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के अन्य सदस्यों के साथ काम करने को तैयार हैं।

भारत ने श्रीलंका को दी 300 करोड़ अमेरिकी डालर की सहायता

भारत ने श्रीलंका की मदद के लिए लाइन क्रेडिट और अन्य तरीकों के रूप में लगभग 30 0 करोड़ अमरीकी डालर की सहायता की है। श्रीलंका ने चीन सहित सभी विदेशी ऋणों के कुल 51 बिलियन अमरीकी डालर के भुगतान में चूक कर दी है, जिसके बाद उसे दिवालिया घोषित कर दिया गया। चीन ने आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए 500 मिलियन आरएमबी (लगभग 730 लाख अमरीकी डालर) की सहायता की घोषणा की है, लेकिन राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के ऋण चुकाने को स्थगित करने और कोलंबो के लिए 2.5 बिलियन अमरीकी डालर की ऋण सुविधा उपलब्‍ध कराने के अनुरोध पर विचार करने की अपनी पूर्व घोषणा के बारे में अब तक चुप रहा।

श्रीलंका का आरोप, चीन का ध्‍यान दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका की ओर

बीजिंग श्रीलंका के राष्‍ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे की इस टिप्पणी से नाराज है कि चीन दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका की ओर अपना रणनीतिक ध्यान केंद्रित कर रहा है, यह देखते हुए कि वित्तीय संकट में दक्षिण एशियाई देशों को बीजिंग से पहले की तरह ध्यान नहीं मिल रहा है।

अब तक चीन ने मदद को लेकर चुप्‍पी साधी

सोमवार को ब्लूमबर्ग को दिए एक साक्षात्कार में राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने कहा कि श्रीलंका 1.5 बिलियन अमरीकी डालर (बीजिंग से क्रेडिट लाइन) का दोहन नहीं कर सका और राष्ट्रपति शी जिनपिंग से आवश्यक सामान खरीदने के लिए 100 करोड़ अमरीकी डालर के ऋण के उनके अनुरोध पर अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई है।

राजपक्षे ने कहा कि चीन ने संकेत दिया कि वह श्रीलंका की मदद करेगा, जबकि आमतौर पर वे पसंद नहीं करते कि पहले के ऋण भुगतान को कवर करने के लिए अधिक धन उधार देना। राजपक्षे ने कहा कि मेरा विश्लेषण यह है कि चीन ने अपना रणनीतिक ध्यान दक्षिण-पूर्व एशिया में स्थानांतरित कर दिया है। वे फिलीपींस, वियतनाम और कंबोडिया और अफ्रीकी महाद्वीप में अधिक रणनीतिक रुचि देख रहे हैं।

पाकिस्‍तान से भी चीन का ध्‍यान हटा

राजपक्षे ने कहा कि इस क्षेत्र में उनकी रुचि कम है। श्रीलंका के राष्ट्रपति ने कहा, मुझे नहीं पता कि मैं सही हूं या गलत, यहां तक ​​कि पाकिस्तान पर भी ध्यान कम हो गया है। इससे पता चलता है कि यहां उनकी रुचि पहले की तरह नहीं है। उनकी रुचि दो अन्य क्षेत्रों में स्थानांतरित हो गई है।

श्रीलंका और पाकिस्‍तान में चीन का सबसे बड़ा निवेश

इस क्षेत्र में चीन के सबसे बड़े निवेश और ऋण के सबसे बड़े प्राप्तकर्ता श्रीलंका और पाकिस्तान हैं। जबकि कोलंबो को चीन से लगभग आठ से 1 हजार करोड़ अमरीकी डालर का निवेश और ऋण हासिल हुआ है, बीजिंग वर्तमान में 6 हजार अमरीकी डालर का चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) बनाने के लिए प्रतिबद्ध है, जिस पर भारत ने विरोध किया है। इसे पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के माध्यम से रखा जा रहा है। गौरतलब है कि दोनों देश सबसे खराब आर्थिक संकट से निपटने के लिए आईएमएफ के बेलआउट पैकेज की मांग कर रहे हैं।

राजपक्षे की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए चीन के विदेश विभाग के प्रवक्‍ता झाओ ने कहा, एक पारंपरिक, मैत्रीपूर्ण पड़ोसी के रूप में चीन हमेशा श्रीलंका की स्थिति पर बारीकी से नजर रखे हुए है। हम देश के सामने मौजूदा कठिनाइयों और चुनौतियों के लिए गहराई से महसूस करते हैं। हम उस देश के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए सहायता प्रदान करने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं।

श्रीलंका मांग को कम करे

दवाओं के लिए 500 मिलियन आरएमबी सहायता पर प्रकाश डालते हुए झाओ ने राजपक्षे की टिप्पणियों को कम करने की मांग की कि चीन ने अपना ध्यान दक्षिण एशिया से स्थानांतरित कर दिया है, जहां उसने अपने प्रभाव का विस्तार करने के लिए भारत के साथ जमकर प्रतिस्पर्धा की। झाओ ने कहा कि चीन की कूटनीति के लिए प्राथमिकता दक्षिण एशियाई देशों सहित पड़ोसी देशों में है। चीन अच्छे पड़ोसी संबंध विकसित करने के लिए अत्यधिक महत्व देता है।

पहले भी बीजिंग ने की है पड़ोसी देशों की सहायता

प्राकृतिक आपदाओं, वैश्विक वित्तीय संकट और कोविड में बीजिंग की सहायता का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि हम इस तरह की दोस्ती को पूरे दिल से विकसित करने के लिए समर्पित हैं। चीन हमेशा दक्षिण एशिया के देशों के साथ खड़ा रहा है और कठिनाइयों से ऊपर उठने के लिए एक साथ रहा है। वर्तमान परिस्थितियों में चीन बीआरआई क्षेत्र बनाने और अच्छी गति को बनाए रखने के लिए सभी संबंधित पक्षों के साथ काम करना जारी रखेगा। इसमें लोगों को अधिक से अधिक लाभ मिलेगा।

कोविड और युद्ध ने संकट को बढ़ाया

उन्होंने कहा कि चीन ने चिंता के साथ नोट किया है कि दक्षिण एशियाई देश वित्तीय और राजस्‍व संबंधी कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं और उनकी बैलेंस शीट में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

पूरी दुनिया के लोग चुनौतियों से जूझ रहे

उन्होंने कहा कि यह कोरोना महामारी से उत्पन्न चुनौतियां हैं। इन कठिनाइयों का रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष के साथ-साथ अमेरिका और पश्चिमी देशों द्वारा रूस पर लगाए गए एकतरफा प्रतिबंधों से भी लेना-देना है। प्रतिबंधों ने विकासशील देशों के सामने खाद्य संकट को और बढ़ा दिया है, साथ ही साथ उनकी वित्तीय कठिनाइयों ने उनके लोगों के लिए चीजों को बदतर बना दिया है।

Edited By Arun Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept