This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

वीजा को लेकर ट्रंप ने जारी किया नया आदेश, टूट सकती है कंपनियों की कमर

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से वीजा पर जारी किए गए एक नए आदेश से कंपनियों की माली हालत खस्ता हो सकती है। एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक का अनुमान है कि इससे अमेरिकी कंपनियों की कमर टूट सकती है।

Ayushi TyagiFri, 23 Oct 2020 03:40 PM (IST)
वीजा को लेकर ट्रंप ने जारी किया नया आदेश, टूट सकती है कंपनियों की कमर

वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से वीजा पर जारी किए गए एक नए आदेश से कंपनियों की माली हालत खस्ता हो सकती है। एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक का अनुमान है कि इससे अमेरिकी कंपनियों की कमर टूट सकती है। इन्हें 100 अरब डॉलर (करीब सात लाख 36 हजार करोड़ रुपये) तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

ट्रंप ने गत जून में एक कार्यकारी आदेश जारी कर एच-1बी और एल-1 समेत कई वीजा पर इस साल के आखिर तक रोक लगा दी थी। इससे भारतीय समेत अन्य विदेशी कामगारों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लग गई है।

ट्रंप ने गत 22 जून को एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर 

थिंक टैंक ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूट ने इस हफ्ते एक रिपोर्ट में बताया कि ट्रंप ने गत 22 जून को एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। इस आदेश के तहत नया एच-1बी और एल-1 वीजा जारी करने पर 31 दिसंबर तक रोक लगा दी गई है। इस कदम का कंपनियों पर दीर्घकालीन नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। रिपोर्ट के अनुसार, इस आदेश के चलते करीब दो लाख विदेशी कामगारों और उनके आश्रितों के अमेरिका आने पर रोक लगने का अनुमान है।

कंपनियां इन वीजा के आधार पर विदेशी पेशेवरों को नौकरी देती हैं या उनका तबादला करती हैं। एच-1बी वीजा भारतीय आइटी पेशेवरों में खासा लोकप्रिय है। इस वीजा के जरिये अमेरिकी कंपनियां उच्च कुशल विदेशी कामगारों को रोजगार देती हैं। हर साल विभिन्न श्रेणियों में 85 हजार वीजा जारी किए जाते हैं। जबकि एल-1 वीजा कंपनियों के लिए आंतरिक तबादले के लिए है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रंप प्रशासन द्वरा इस तरह आव्रजन पर लगाम लगाने के उपायों से अमेरिकी फर्मों पर स्थायी रुप से नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद आर्थिक सुधार की प्रक्रिया धीमी हो जाएगी। 

ये भी पढ़ें- वॉशिंगटन: कश्मीरी पंड़ितों पर हुए आक्रमण को लेकर GKPD ने पाकिस्तान दूतावास के सामने निकाली विरोधी रैली