बीएसएफ ने 26 मवेशियों को बांग्लादेश में तस्करी से बचाया, एक तस्कर को भी दबोचा

बीएसएफ के जवानों ने 26 मवेशियों को तस्करी से बचाया है और तस्‍क्‍र को भी गिरफ्तार किया है। इन मवेशियों को बांग्लादेश ले जाया जा रहा था।

Babita KashyapPublish: Sun, 20 Sep 2020 03:25 PM (IST)Updated: Sun, 20 Sep 2020 03:25 PM (IST)
बीएसएफ ने 26 मवेशियों को बांग्लादेश में तस्करी से बचाया, एक तस्कर को भी दबोचा

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के जवानों ने बंगाल में भारत-बांग्लादेश सीमा क्षेत्र से अलग-अलग घटनाओं में 26 मवेशियों को तस्करी से बचाने के साथ एक तस्कर को भी गिरफ्तार किया है। इनमें मालदा सेक्टर अंतर्गत बीएसएफ की सीमा चौकी चापघाटी इलाके से  78वीं वाहिनी के जवानों ने 2 मवेशियों के साथ एक भारतीय तस्कर को शुक्रवार देर रात करीब 2 बजे उस समय दबोचने मे सफलता हासिल की, जब वह भागीरथी नदी के रास्ते मवेशियों को लेकर बांग्लादेश की तरफ जा रहा था। 

 इसके अलावा दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के जिम्मेवारी के इलाकों से 24 मवेशियों को तस्करों के चंगुल से छुड़ाया गया। बीएसएफ के अनुसार, बचाए गए मवेशियों की अनुमानित कीमत 1,84,433 रुपये हैं। पकड़े गए तस्कर का नाम हासन अली है। वह मुर्शिदाबाद जिले के सूती थाना अंतर्गत अखनाबाड़ी गांव का रहने वाला है। पूछताछ में उसने बताया कि यह मवेशी उसने सूती इलाके के ही रहने वाले मो.सानिल महालदार से लिया था और आगे यह मवेशी मो. खालिद, ग्राम- गायापरा, पोस्ट-हसनपुर, थाना - शिवगंज, जिला-  चपाईनवाबगंज, बांग्लादेश को देने थे, परंतु बीएसएफ के जवानों ने उसे पकड़ लिया।

 बीएसएफ ने आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए तस्कर को सूती थाने को सौंप दिया हैं। साथ ही बीएसएफ की ओर से एफआइआर भी दर्ज कराई गई है ताकि मामले की गहराई से छानबीन हो सके और पशु तस्करी के नेटवर्क में शामिल तस्करों पर शिकंजा कसा जा सके। गौरतलब है कि चालू वर्ष 2020 के दौरान अब तक दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के जवानों ने 4,290 मवेशियों को तस्करों के चंगुल से बचाने में सफलता हासिल की है, जब बांग्लादेश में इसकी तस्करी की कोशिश की जा रही थी।

खागरागढ़ विस्फोट कांड में बयान देने से मुकरे दो गवाह, अदालत ने जारी किया वारंट

बेड होने पर अगर अस्‍पताल ने किया कोरोना मरीज को भर्ती से इनकार तो दर्ज होगी शिकायत

 

Edited By Babita kashyap

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept