सीमा सुरक्षा के साथ गांवों की समस्याओं का भी निराकरण

दारमा घाटी में तैनात 36वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस ने सिविक एक्शन प्लान के तहत घाटी के सभी गांवों में कार्यक्रमों का आयोजन किया।

JagranPublish: Sat, 22 Jan 2022 09:00 PM (IST)Updated: Sat, 22 Jan 2022 09:00 PM (IST)
सीमा सुरक्षा के साथ गांवों की समस्याओं का भी निराकरण

जागरण संवाददाता, पिथौरागढ़: चीन सीमा पर दारमा घाटी में तैनात 36वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस ने सिविक एक्शन प्लान के तहत घाटी के सभी गांवों में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया। बालिग गांव में ग्रामीणों के लिए पेयजल टैंक का निर्माण किया।

वाहिनी के सेनानी बसंत कुमार नोगल के नेतृत्व में बल ने बालिग गांव में पेयजल टैंक बना कर बालिग, उर्थिग, सेला, दर, दुग्तू को पांच- पांच सौ लीटर के टैंकों का वितरण किया। चीन सीमा से लगे फिलम, बौन, दुग्तू, दांतू, सौन गांवों में हाइजिन और सैनिटाइजर का छिड़काव किया गया। तिदांग, गो, ढाकर, नागलिग, बालिंग, मार्छा और अंतिम गांव सीपू के युवाओं को खेलने के लिए बालीबाल, टेनिस, फुटबाल, स्पो‌र्ट्स सूज का वितरण किया।

वाहिनी द्वारा इस समय 21 जनवरी से 23 जनवरी तक सैप के तहत वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। आइटीबीपी गोठी के प्रांगण में खेलकूद कार्यक्रम हो रहे हैं। जिसमें दारमा की आठ टीमें तिदांग, बौन, दर, बालिग, गो, नागलिंग, बालिंग, सौन, दुग्तू टीमें प्रतिभाग कर रही हैं। प्रतियोगिता में प्रथम रहने वाली टीम को ट्राफी के साथ 25 हजार रुपये का प्रथम पुरस्कार रखा गया है। रनर को ट्राफी के साथ 15 हजार का पुरस्कार रखा गया है।

प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर उप सेनानी संजय तिवारी सहित क्षेपंस मनोज ग्वाल, ग्राम प्रधान जमन सिंह, शांति सीपाल, सुनीता मार्छाल, सरिता देवी, दीना देवी, विरेंद्र दुग्ताल, सपना देवी, भगवती देवी, मुकेश सिंह ग्वाल, उप प्रधान गजेंद्र सिंह, बिद्रा देवी आदि उपस्थित रहे। वहीं ग्रामीणों ने आइटीबीपी के कार्यो की सराहना भी की। उन्होंने कहा कि बल सीमा सुरक्षा के साथ ग्रामीणों को भी सहयोग करता है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept