पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया को टिकट न मिलने से समर्थकों में रोष

Uttarakhand Election 2022 भाजपा ने कपकोट से पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के करीबी सुरेश गढ़िया को प्रत्याशी बनाया है। जिसके बाद पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया के समर्थकों में रोष बढ़ने लगा है

Skand ShuklaPublish: Sat, 22 Jan 2022 07:48 PM (IST)Updated: Sat, 22 Jan 2022 07:48 PM (IST)
पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया को टिकट न मिलने से समर्थकों में रोष

बागेश्वर, जागरण संवाददाता : भाजपा ने कपकोट का टिकट फाइनल तो कर दिए हैं। लेकिन कपकोट में घमासान मचा हुआ है। पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया के समर्थक खुली चुनौती देने लगे हैं। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार विधायक बलवंत भौर्याल का टिकट नहीं कटा होता तो भाजपा को इस तरह के विरोध का सामना नहीं करना पड़ता।

पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के करीबी सुरेश गढ़िया को भाजपा ने यहां से प्रत्याशी घोषित किया। जिसके कारण एक धड़ा नाराज है। जिसमें जिपंस, क्षेपंस और ग्राम प्रधान भी शामिल बताए जा रहे हैं। इंटरनेट मीडिया पर पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया के चुनाव लड़ने की सूचनाओं का भी आदान-प्रदान होने लगा है। उनके आप में जाने की भी बात उड़ रही है। आप के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष भूपेश उपाध्याय से भी कार्यकर्ताओं ने मुलाकात की है। जिसके कारण आने वाले दिनों में कपकोट की राजनीति में पाला बदल की संभावना बनी हुई है।

इंटरनेट मीडिया पर इस्तीफे का दौर

शनिवार को सभापति, सभासद समेत करीब 80 कार्यकर्ताओं ने पार्टी की सदस्यंता से इंटरनेट मीडिया पर प्रपत्र डालकर इस्तीफा देने की बात की है। पहले दिन 39 लोगों ने इस्तीफा दिया तो दूसरे दिन लीली, सौंग, कपकोट, मुनार, पुड़कुंनी, बघर, चलकाना, लखमारा, फरसाली, जगथाना, गुलेर के ग्राम प्रधानों समेत सभासदों ने इस्तीफा दिया है।

मनाने पहुंचे बिशन सिंह चुफाल व जिलाध्यक्ष

मंत्री विशन सिंह चुफाल, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव सिंह बिष्ट शनिवार को कपकोट पहुंचे। उन्होंने एक कमरे में पूर्व विधायक शेर सिंह गढ़िया से कई देर तक बात की।कहा कि उनकी पार्टी अनुशासित पार्टी है। किसी भी कार्यकर्ता के साथ यहां अन्याय नहीं होगा। सभी ने मिलकर घोषित प्रत्याशी को जिताने के लिए मेहनत करनी होगी। जिलाध्यक्ष भाजपा शिव सिंह बिष्ट ने बताया कि शेर सिंह गढ़िया के समर्थक टिकट नहीं मिलने से नाराज हैं। गढ़िया सीनियर व जमीनी नेता है। वह विधायक के अलावा कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं। जल्द ही उनकी नाराजगी दूर हो जाएगी और पार्टी प्रत्याशी को पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगे।

Edited By Skand Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept