This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

फेसबुक, डीपी और वाट्सएप पर इंदिरा को श्रद्धांजलि देने वालों का सैलाब

नेता प्रतिपक्ष के निधन पर हर वर्ग के लोगों में मायूसी दिखी। कांग्रेस कार्यकर्ता सामाजिक व्यापारिक व कर्मचारी संगठनों के अलावा आम लोगों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी। कई संगठनों ने वर्चुअल बैठक के दौरान उनके कामों पर चर्चा करते हुए उनके व्यक्तित्व को विकास से जोड़ा।

Skand ShuklaMon, 14 Jun 2021 08:05 AM (IST)
फेसबुक, डीपी और वाट्सएप पर इंदिरा को श्रद्धांजलि देने वालों का सैलाब

हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : नेता प्रतिपक्ष के निधन पर हर वर्ग के लोगों में मायूसी दिखी। कांग्रेस कार्यकर्ता, सामाजिक, व्यापारिक व कर्मचारी संगठनों के अलावा आम लोगों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी। कई संगठनों ने वर्चुअल बैठक के दौरान उनके कामों पर चर्चा करते हुए उनके व्यक्तित्व को विकास से जोड़ा। वहीं, फेसबुक और वाट्सएप के जरिये श्रद्धांजलि देने का सिलसिला दिनभर चलता रहा। लोगों ने लिखा कि हल्द्वानी सदैव आपका ऋणी रहेगा।

नेता प्रतिपक्ष के निधन पर अखिल ब्राहृमण उत्थान महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष हेम चंद्र, संजीव शर्मा, योगेश जोशी, देवभूमि उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष हुकम सिंह कुंवर, देवभूमि व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष गोविंद बगड़वाल ने बैठक व वर्चुअल बैठक के जरिये शोक जताया। वहीं, सांसद प्रतिनिधि वीरेंद्र गुप्ता, ट्रांसपोर्ट नगर व्यापारी एसोसिएशन, प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष नवीन वर्मा व अन्य व्यापारियों ने भी इंदिरा के निधन को बड़ी क्षति बताया। वहीं, राजकीय शिक्षक संघ के पूर्व पदाधिकारी डा. कन्नू जोशी, डा. महेश बवाड़ी, सूरज कुमार के अलावा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने वर्चुअल बैठक के जरिये शोक जताया।

छात्र जीवन से ही मुझे डा. इंदिरा हृदयेश से काफी कुछ सीखने को मिला। छात्र संघ अध्यक्ष बनने के बाद कई बार उनके संग काम करने का मौका मिला। वह हमेशा विकास के लिए समर्पित रहती थी।

राम सिंह कैड़ा, विधायक भीमताल

संसदीय कार्यप्रणाली की उनकी समझ, विकास के प्रति उनकी सोच ने उन्हें एम महान नेता के रूप में स्थापित किया। विकास की प्रतीक व राजनैतिक अभिभावक डा. इंदिरा का निधन अपूर्णीय क्षति।

प्रकाश जोशी, पूर्व राष्ट्रीय सचिव

उनकी कमी को कोई पूरा नहीं कर सकता। लंबे समय तक उनका धुर-विरोधी रहा। लेकिन पिछले साढ़े चार साल में उनके काम व सोच को नजदीक से देखने का मौका मिला। वह गरीबों की मसीहा थी।

अब्दुल मतीन सिद्दीकी, पूर्व दर्जा राज्यमंत्री

वरिष्ठ नेता और हल्द्वानी शहर की पहचान डा. इंदिरा को विनम्र श्रद्धांजलि। उनके निधन से राजनीति का एक अध्याय भी समाप्त हो गया। ईश्वर उनके शोक संतप्त परिवार को यह आघात सहने की शक्ति दें।

समित टिक्कू, प्रदेश प्रवक्ता आप

मेरा उनसे राजनैतिक मतभेद था पर कभी मनभेद नहीं रहा। मैंने उनसे राजनीति में बहुत कुछ सीखा। उनका अनुभव उप्र से उत्तराखंड तक प्रथम पंक्ति के नेताओं में था। कांग्रेस को उनकी कमी हमेशा खलेगी।

ललित जोशी, पीसीसी मेंबर

दबाव को दरकिनार कर उनके अंदर गलत को गलत और सही को सही निर्णय लेने की क्षमता थी। आम आदमी बगैर हिचक उनके कक्ष तक पहुंचता था। जरूरतमंदों की मदद को वह हमेशा तत्पर रहती थी।

महेश शर्मा, प्रदेश महासचिव कांग्रेस

कुशल प्रशासक, राजनीति की पुरोधा और संसदीय कार्यों की ज्ञाता इंदिरा का जाना एक युग का अंत है। क्षेत्र के विकास के लिए वह हमेशा प्रयासरत रहती थी। नेता प्रतिपक्ष को विनम्र श्रद्धांजलि।

खजान पांडे, पूर्व महासचिव कांग्रेस

आयरन लेडी और विकास के नाम से मशहूर नेता प्रतिपक्ष के जाने सभी लोग आहत है। हल्द्वानी समेत पूरे प्रदेश के लिए उन्होंने बहुत कुछ किया। उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

दीपक बल्यूटिया, प्रदेश प्रवक्ता कांग्रेस

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Skand Shukla

नैनीताल में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!