भारत-नेपाल के अधिकारियों के बीच बैठक, जानिए इन मुद्दों पर बनी सहमति

दोनों राष्ट्रों के पुलिस/प्रशासनिक एजेंसियों में समन्वय स्थापित करने जाली नोट मादक पदार्थ वन्य जीव व मानव तस्करी की रोकथाम आदि मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में भारत-नेपाल राष्ट्रों के मध्य स्थित छारछुम-दार्चुला मोटर पुल एवं ऐलागाड़ झूलापुल का निर्माण किए जाने पर भी चर्चा की गई।

Prashant MishraPublish: Sat, 27 Nov 2021 06:44 PM (IST)Updated: Sat, 27 Nov 2021 06:44 PM (IST)
भारत-नेपाल के अधिकारियों के बीच बैठक, जानिए इन मुद्दों पर बनी सहमति

जागरण संवाददाता, पिथौरागढ़ : भारत-नेपाल सीमा समन्वय समिति की बैठक में दोनों देशों की सीमा पर सघन चेकिंग एवं पेट्रोलिंग और सूचनाओं के आदान प्रदान पर सहमति बनी। पूर्व की भाति ही सहयोग के साथ कार्य करते हुए एक दूसरे को सहयोग देने का निर्णय लिया गया।

शनिवार को विकास भवन सभागार में जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में भारत से पिथौरागढ़ जिला और नेपाल के दार्चुला और बैतड़ी जिलों के अधिकारी मौजूद रहे। जिलाधिकारी ने नेपाल से आए अधिकारियों का बुके देकर स्वागत किया। इस दौरान विभिन्न बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा की गई। जिसमें दोनों देशों की सीमा पर स्थापित सुरक्षा एंजेसियों एवं स्थानीय पुलिस के मध्य आपसी समन्वय स्थापित करने, आवागमन करने वाले नागरिकों से कोविड-19 नियमों का अनुपालन कराये जाने, एक दूसरे देश में प्रवेश पर अपने साथ अपने राष्ट्र से संबंधित कोई एक पहचान पत्र प्रदर्शित करने की अनिवार्यता पर सहमति बनी।

साथ ही जनपद के विभिन्न अभियोगों में वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी में सहयोग दिए जाने, दोनों राष्ट्रों के सीमावर्ती जनपदों के पुलिस/प्रशासनिक एजेंसियों में समन्वय स्थापित करने, जाली नोट, मादक पदार्थ, वन्य जीव व मानव तस्करी की रोकथाम में सहयोग आदि मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया।  बैठक में भारत-नेपाल राष्ट्रों के मध्य स्थित छारछुम-दार्चुला मोटर पुल एवं ऐलागाड़ झूलापुल का निर्माण किए जाने पर भी बैठक में चर्चा की गई। बैठक में जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डा. आशीष चौहान द्वारा नेपाल प्रशासन से आगामी विधानसभा के लिए सहयोग की अपील की गई। 

नेपाल ने जनगणना टीम के लिए मांगी अनुमति

नेपाल स्थित दो ग्राम सभा टिंकर तथा छांगरु में होने वाली जनगणना के लिए जनगणना टीम को भारत के सड़क मार्ग से भेजा जाना है। इसके लिए बैठक में दार्चुला के अधिकारियों द्वारा  अनुमति प्रदान किए जाने के लिए भारत से की गईं कार्रवाई की जानकारी प्राप्त की गई। जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डा. चौहान ने बताया कि इस संबंध में उनकी ओर से उत्तराखंड शासन के माध्यम से भारत सरकार विदेश मंत्रालय को पत्राचार किया गया है। विदेश मंत्रालय से जो भी दिशा निर्देश प्राप्त होंगे उससे शीघ्र ही उन्हें अवगत कराया जाएगा। 

दोनों देश सूचनाओं के आदान-प्रदान में करेंगे सहयोग

बैठक में दोनों देशों के अधिकारियों के बीच सहमति बनी कि मानसून काल से पूर्व दोनों के अधिकारी आपस में सीमा क्षेत्र में घटित होने वाली आपदा से निपटने के लिए पूर्वाभ्यास करेंगे। साथ ही एक दूसरे को सूचनाओं का आदान-प्रदान व सहयोग देंगे। बैठक में  धारचूला में नेपाल को जोडऩे वाले झूलापुल की जर्जर स्थिति को ठीक करने के मामले पर जिलाधिकारी पिथौरागढ़ द्वारा अधिशासी अभियंता लोनिवि अस्कोट को यथाशीघ्र ही निरीक्षण कर मरम्मत का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए।

बैठक में नेपाल से आए अधिकारियों द्वारा भारत में आपदा के दौरान चलाए जाने वाले हेली रेस्क्यू आपरेशन की पूर्व सूचना नेपाल प्रशासन को उपलब्ध कराए जाने का प्रकरण रखा गया। जिस पर निकट भविष्य में उक्त संबंध में जानकारी सांझा करने का आश्वासन भारत की ओर से दिया गया। 

अधिकारियों का बनेगा सोशल मीडिया ग्रुप

बैठक में दोनों देशों के सीमावर्ती जिले में किसी भी प्रकार की घटना की सूचना तत्काल एक दूसरे को प्रदान किए जाने के लिए वाट्सएप ग्रुप बनाने पर सहमति बनी। जिसमें दोनों देशों के अधिकारियों को जोड़ सूचनाओं का आदान प्रदान किया जाएगा।

Edited By Prashant Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept