This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पिथौरागढ़ में बकरी बचाने को भिड़ गया नरेश, गुलदार को मार डाला

गुलदार ने एक बकरी पर झपट्टा मारा। नरेश सिंह बकरी को बचाने गया तो गुलदार ने उस पर ही हमला कर दिया। आत्मरक्षा के लिए नरेंद्र सिंह गुलदार के साथ भिड़ गया। नरेश ने दराती से गुलदार पर प्रहार किया। दराती के वार से गुलदार की मौत हो गई।

Prashant MishraTue, 31 Aug 2021 11:10 PM (IST)
पिथौरागढ़ में बकरी बचाने को भिड़ गया नरेश, गुलदार को मार डाला

जागरण संवाददाता, पिथौरागढ़ : नगर के निकटवर्ती नैनी सैनी क्षेत्र में गुलदार के हमले में गुलदार से भिड़ा ग्रामीण भारी पड़ा। आत्मरक्षा के लिए ग्रामीण ने गुलदार को मार दिया। नैनी सैनी निवासी नरेश सिंह सौन घर से लगभग 20 मीटर दूरी पर बकरियों को चरा रहा था। इस दौरान गुलदार ने एक बकरी पर झपट्टा मारा। नरेश सिंह बकरी को बचाने गया तो गुलदार ने उस पर ही हमला कर दिया। आत्मरक्षा के लिए नरेंद्र सिंह गुलदार के साथ भिड़ गया। दोनों में गुत्थमगुत्था हुई। नरेश  सिंह के हाथ में दराती थी और उसने दराती से गुलदार पर प्रहार किया। दराती के वार से गुलदार की मौत हो गई। इस दौरान ग्रामीण भी घायल हो गया।

घटना की सूचना वन विभाग को दी गई। वन रेंजर दिनेश जोशी के नेतृत्व में वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। जहां पर गुलदार का शव कब्जे में लिया। इस संबंध में नरेंद्र सिंह सहित यह सब देख रहे ग्रामीणों के बयान लिए गए। वन रेंजर दिनेश जोशी ने बताया कि मामला आत्मरक्षा का साबित हुआ। गुलदार से बचाव के लिए नरेंद्र सिंह ने दराती से उस पर वार किये जिसके चलते गुलदार की जान चली गई। गुलदार के शव का पोस्टमार्टम कर दिया गया है। आत्मरक्षा के मामला होने से किसी तरह की कार्यवाही नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि मृत गुलदार दो वर्षीय मादा गुलदार था।

दिन दहाड़े गुलदार की धमक से लोगों में दहशत 

लोहाघाट : ग्राम सभा छुलापैं के बांस  तोक में सोमवार को दिन दहाड़े गुलदार दिखाई दिया। जिससे लोग दहशत में हैं। क्षेत्रवासियों ने वन विभाग से अविलंब गुलदार के आतंक से निजात दिलाए जाने की मांग की है। गांव के भुवन चंद्र, दिनेश चंद्र, प्रकाश चंद्र, किशोर ने बताया कि वह दिन में चार बजे बांस तोक  को जाने वाले मार्ग से सड़क की ओर आ रहे थे। इतने में उन्हें रास्ते में बैठा गुलदार दिखाई दिया। जिसे देख वह डर गए। फिर सबने एक साथ हल्ला करना शुरू किया तो गुलदार वहां से भाग गया। गांव में गुलदार की सक्रियता से  लोग सहमे हैं। क्षेत्र के लोगों ने सुबह शाम मार्निग वॉक का समय बदल दिया है।

इधर छमनियां क्षेत्र में शाम होते ही सड़कों में गुलदार दिखाई देने से लोगों ने दहशत का माहौल बना हुआ है। इसे पूर्व की छमनियां, गलचौड़ा, मल्ली पाटन में भी गुलदार ने कई जानवरों को निवाला बन चुका है। लोगों ने वन विभाग से क्षेत्र में सुबह शाम गश्त करने की मांग की है।

Edited By: Prashant Mishra

नैनीताल में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!