दोस्त ही निकला नानकमत्ता हत्याकांड का मास्टर माइंड, लखनऊ में बड़ी वारदात अंजाम देने की थी साजिश

हत्या का मास्टर माइंड मृतक का दोस्त ही निकला। उसने एक साथ मोटी रकम हथियाने के चक्कर में इतनी बड़ी साजिश रची थी। पुलिस के अनुसार हत्यारे रकम हाथ लगने के बाद उप्र की राजधानी लखनऊ में सुपारी लेकर हत्या को अंजाम देने वाले थे उससे पहले दबोच लिए गए।

Prashant MishraPublish: Mon, 03 Jan 2022 07:18 PM (IST)Updated: Mon, 03 Jan 2022 07:18 PM (IST)
दोस्त ही निकला नानकमत्ता हत्याकांड का मास्टर माइंड, लखनऊ में बड़ी वारदात अंजाम देने की थी साजिश

जागरण, संवाददाता, सितारगंज : उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जिले के नानकमत्ता में चार हत्या का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। तीन आराेपित पुलिस की गिरफ्त में हैं। एक की तलाश की जा रही है। हत्या का मास्टर माइंड मृतक का दोस्त ही निकला। उसने एक साथ मोटी रकम हथियाने के चक्कर में इतनी बड़ी साजिश रची थी। पुलिस के अनुसार हत्यारे रकम हाथ लगने के बाद उप्र की राजधानी लखनऊ में सुपारी लेकर हत्या को अंजाम देने वाले थे, उससे पहले ही दबोच लिए गए। पुलिस एक फरार की तलाश के साथ इन तीनों से पूछताछ में जुटी हई है।

बुधवार को नानकमत्ता में आशीर्वाद ज्वैलर्स के स्वामी अंकित रस्तोगी उसकी मां आशा रस्तोगी नानी सन्नो रस्तोगी ममेरे भाई उदित रस्तोगी की अलग-अलग स्थानों पर हत्या कर दी गई। सोमवार को पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा कर दिया। खुलासे के दौरान पुलिस के पास लूट का मकसद सामने आया है। पुलिस पूछताछ में पता चला है कि हत्यारोपी लूट के इरादे से अंकित को मारना चाहते थे। हत्यारों को पता था कि अंकित के पास 12 लाख रुपये की नगदी है।

नगदी लूटने के उद्देश्य से अंकित के करीबी दोस्त रानू रस्तोगी ने योजना बनाई। जिसमें पेशेवर अपराधी सचिन सक्सेना को शामिल किया गया। इसके बाद आरोपी अंकित के घर पहुंचे और बर्थडे पार्टी का बहाना बनाकर उसे ले गए। बदमाशों के साथ गए अंकित ने वाहन को खुद ही ड्राइव किया था उसे मालूम नहीं था कि हत्यारों का मकसद उसे मौत के घाट उतारना है। अंकित जैसे ही कार से उतरा रानू रस्तोगी, सचिन रस्तोगी और उसके साथियों ने डंडो और तेज धारदार हथियारों से अंकित और उदित की हत्या कर दी। इसके बाद बदमाश अंकित के घर में रखे रुपए लूटने के लिए निकल पड़े।

घर पहुंचने पर आरोपियों ने अंकित की मां और नानी का कत्ल कर दिया, पर जब अलमारी खोलने पहुंचे तो नहीं खोल सकी। पुलिस के अनुसार अलमारी की चाबी अंकित रस्तोगी के पास रह गई थी। इस वजह से अलमारी में रखा पैसा बदमाशों के आते नहीं चढ़ सका। बदमाशों ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि अंकित के घर से 12 लाख की नकदी लूटने के बाद वह लखनऊ में सुपारी लेकर हत्या को अंजाम देते लेकिन पुलिस ने इससे पहले ही उन्हें धर लिया।

लखनऊ में हत्या कर सरेंडर की थी प्लानिंग

आरोपितों की लखनऊ में एक अमीर व्यक्ति की हत्या कर वहीं कोर्ट में सरेंडर करने की प्लानिंग थी। मगर इससे पहले ही पुलिस ने तीन आरोपितों को पकड़ लिया। सचिन फरार है। पुलिस के मुताबिक पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ में रानू ने बताया कि सचिन का कहना था कि लखनऊ में दो व्यक्ति में आपसी रंजिश है। एक व्यक्ति की हत्या करने के लिए 25 लाख रुपये सुपारी में मिल रहे हैं। लखनऊ में व्यक्ति की हत्या करने के बाद वहीं कोर्ट में सरेंडर कर दिया जाएगा। इस मामले में नानकमत्ता हत्या के चारों आरापितों की योजना थी। जिससे इस मामले में पुलिस की पिटाई से बच जाएंगे।

यह भी पढ़ें : नानकमत्ता हत्याकांड का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार, इसलिए हुआ एक परिवार के चार लोगों का मर्डर

Edited By Prashant Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept