This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Haridwar Kumbh 2021: कुंभ के स्वागत को तैयार हो रही धर्मनगरी श्रद्धालुओं को नए कलेवर में आएगी नजर

Haridwar Kumbh 2021 धर्मनगरी हरिद्वार इन दिनों कुंभ के स्वागत को तैयार हो रही है। कुंभ में पुण्य की डुबकी लगाने हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी पूरी तरह नए कलेवर नजर आएगी। थीम आधारित फसाड लाइट चमचमाते टाइल्स सुंदरता एवं भव्यता में चार चांद लगाने जा रहे हैं।

Sumit KumarMon, 28 Dec 2020 06:20 AM (IST)
Haridwar Kumbh 2021: कुंभ के स्वागत को तैयार हो रही धर्मनगरी श्रद्धालुओं को नए कलेवर में आएगी नजर

अनूप कुमार, हरिद्वार: Haridwar Kumbh 2021 धर्मनगरी हरिद्वार इन दिनों कुंभ के स्वागत को तैयार हो रही है। कुंभ में पुण्य की डुबकी लगाने हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी पूरी तरह नए कलेवर नजर आएगी। थीम आधारित फसाड लाइट, गंगा अवतरण की कहानी बयां करते म्यूरल, चमचमाते टाइल्स, ब्रह्मकुंड पर नित्य प्रति सुबह-शाम होने वाली गंगा आरती के दिव्य दर्शन हरकी पैड़ी की सुंदरता एवं भव्यता में चार चांद लगाने जा रहे हैं।

गंगा घाटों का नजारा भी कुंभ में आम दिनों से जुदा रहेगा। तीर्थ पुरोहितों के स्थान को एक जैसा स्वरूप देने के लिए तख्त एवं छतरी सभी एक रंग-एक आकार में लाए जा रहे हैं। रात के समय हरकी पैड़ी क्षेत्र में दिन जैसा उजाला करने को दो-दो स्टेडियम लाइट््स, घाटों पर चमकती स्टेनलेस स्टील की सुरक्षा रेङ्क्षलग और खुले में जा रहे हर तरह के तारों के संजाल से मुक्त हरकी पैड़ी का कुंभ के दौरान नजारा ही अलग होगा।श्रीगंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ठ बताते हैं कि एलईडी स्क्रीन लगने से हरकी पैड़ी आने वाले बुजुर्ग यात्रियों को गंगा आरती के दर्शन और उसमें शरीक होने में आसानी हो जाएगी। आइओसी और सोनी कंपनी की मदद से एलईडी स्क्रीन को इस तरह लगाया जा रहा है कि कुंभ व कुंभ के बाद भी गंगा आरती के समय अत्याधिक भीड़ होने की दशा में हरकी पैड़ी के किसी भी कोने से गंगा आरती के सजीव दर्शन किए जा सकें। बुजुर्ग और दिव्यांग भीड़ अधिक होने पर आरती स्थल के नजदीक तक नहीं पहुंच पाते, पर स्क्रीन लगने से वह अपनी जगह से आरती दर्शन कर सकेंगे। कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत बताते हैं कि हरकी पैड़ी के कायाकल्प को मेला अधिष्ठान 35 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है।

भारतीय तेल निगम (आइओसी) के सीएसआर फंड के तहत हो रहे इन कार्यों में प्रमुख हैं, हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड क्षेत्र में पडऩे वाली हर दीवार पर गंगा अवतरण और उससे जुड़ी कथाओं-मान्यताओं-परंपराओं की कहानी बयां करते म्यूरल की स्थापना, थीम आधारित हर मिनट रंग बदलती फसाड लाइट (एलईडी युक्त फोकस लाइट), हरकी पैड़ी क्षेत्र को सिर के ऊपर से गुजर रहे हर तरह के तारों से मुक्ति दिलाना। इसके साथ ही हरकी पैड़ी पर आने वाले श्रद्धालुओं के स्वागत व गंगा तीर्थ का आध्यात्मिक-अलौकिक एहसास कराने को हरकी पैड़ी, सीसीआर और हाथी पुल पर तोरणद्वार का निर्माण। इनमें से दो तोरणद्वार का निर्माण आइओसी और एक का सोनी कंपनी करा रही है। गंगा घाटों पर स्नान करने वाले यात्रियों की सुरक्षा को हर घाट पर स्टेनलेस स्टील की सुरक्षा रेङ्क्षलग लगाई जा रही है। सड़कों और पुलों की भी मरम्मत करायी जा रही है।

यह भी पढ़ें- Haridwar Kumbh Mela 2021 :अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने कुंभ मेला के लिए सरकार की तैयारी पर जताई नाराजगी

बदली जा रही है घाट की टाइल्स

हरकी पैड़ी के सुंदरीकरण के तहत ब्रह्मकुंड, मालवीय द्वीप, नाईसोता घाट, सुभाष घाट आदि की चौखट व टाइल्स को बदला जा रहा है। घाट की सीढिय़ां नई बनाई जा रही हंै। इन घाटों को रात के समय नया स्वरूप देने को प्रवाहमान गंगाजल में रंग-बिरंगी आभा बिखेरने को एलईडी लाट््स भी लगवाई जा रही है। पानी के अंदर जलने वाली इन लाइट््स के गंगाघाट और गंगाजल का सौंदर्य देखते ही बनेगा। मालवीय द्वीप, हरकी पैड़ी, नाई सोता और सुभाष घाट पर नदी के हिस्से की तरफ टाइल्स बदलने का काम लगभग पूरा हो चुका है। ऊपरी काम अभी चल रहा है।

लैंड स्केपिंग व सदाबहार फूल बढ़ाएंगे शोभा

हाइवे और अलकनंदा की तरफ से हरकी पैड़ी जाने वाले रास्ते में खाली मैदान को लैंड स्केपिंग के तौर पर घास और हर सीजन में खिलने फूलों से सजाया जाएगा। इसके लिए मैदान से अतिक्रमण हटाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- Haridwar Kumbh 2021: राज्य सरकार फरवरी में कुंभ की अधिसूचना से पहले अखाड़ा परिषद समेत संतों से करेगी विमर्श

हरिद्वार में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!