This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

हरिद्वार में ट्रेन की चपेट में आने से चार की मौत, लक्‍सर-हरिद्वार रेलवे ट्रैक पर चल रहा था ट्रेन ट्रायल

हरिद्वार में रेलवे के डबल ट्रैक के ट्रायल के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से चार व्‍यक्तियों की मौत हो गई। घटना गुरुवार देर शाम लक्‍सर हरिद्वार ट्रैक के ज्‍वालापुर की है। यहां ट्रैक के दोहरीकरण का ट्रायल गुरुवार को किया जा रहा था।

Sumit KumarThu, 07 Jan 2021 11:11 PM (IST)
हरिद्वार में ट्रेन की चपेट में आने से चार की मौत, लक्‍सर-हरिद्वार रेलवे ट्रैक पर चल रहा था ट्रेन ट्रायल

जागरण संवाददाता, हरिद्वार: लक्सर-हरिद्वार रेल मार्ग पर डबल ट्रैक के ट्रायल के दौरान ट्रेन से कटकर चार व्यक्तियों की मौत हो गई। हादसा जमालपुर रेलवे फाटक से 200 मीटर की दूरी पर हुआ। ट्रायल ट्रेन 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ रही थी, जिससे चारों व्यक्तियों की धज्जियां उड़ गई। हालांकि रेलवे अधिकारियों ने फौरी तौर पर हादसे की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया है। अलबत्ता डीआरएम ने जांच बैठा दी है। वहीं, इस घटना पर मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने घटना पर शोक व्‍यक्‍त कर उनके स्‍वजनों के प्रति संवेदना प्रकट की। उन्‍होंने जिलाधिकारी को घटना की जांच और घायलों के उपवार की समुचित व्‍यवस्‍था के निर्देश दिए हैं। 

देर रात को  हुई शिनाख्‍त

घायल  ट्रेन से कटे युवकों की शिनाख्‍त प्रवीण चौहान, मयूर चौहान, विशाल चौहान, गोलू उर्फ हैप्‍पी निवासी सीतापुर ज्‍वालापुर के रूप में हुई। 

देर रात तक ट्रैक किनारे कॉम्बिंग

हरिद्वार: हादसे के बाद एसपी जीआरपी मंजूनाथ टीसी के नेतृत्व में देर रात तक जीआरपी, आरपीएफ व सिविल पुलिस के राजपत्रित अधिकारी ट्रैक किनारे कॉम्बिंग में जुटे थे। एसपी जीआरपी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि ट्रायल ट्रेन से हादसे में चार शव बरामद हो चुके हैं। ट्रैक किनारे कॉम्बिंग चल रही है। हादसे के कारणों की जांच शुरू कर दी गई है।

दो साल से चला रहा था ट्रैक के दोहरीकरण का कार्य

लक्सर-हरिद्वार रेल मार्ग पर ट्रैक के दोहरीकरण का कार्य दो साल से चला आ रहा था। अभी तक इस रूट पर 50 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेनें गुजरती आ रही हैं। दोहरीकरण के बाद 10 जनवरी से ट्रेनों की स्पीड दोगुनी यानि 100 किलोमीटर प्रतिघंटा होनी है। लाइन के दोहरीकरण का काम पूरा होने पर ट्रायल के लिए गुरुवार को रेलवे के सीआरएस (कमिश्नर आफ रेलवे सेफ्टी) के नेतृत्व में तकनीकी विशेषज्ञों की एक टीम हरिद्वार पहुंची थी। डबल ट्रैक और रफ्तार का ट्रायल करने के लिए दिल्ली से स्पेशल ट्रेन भी बुलाई गई थी। 

120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ी ट्रायल ट्रेन

गुरुवार देर शाम जमालपुर रेलवे फाटक से 200 मीटर आगे लक्सर की ओर रेलवे ट्रैक पर चार लोग ट्रायल ट्रेन की चपेट में आ गए। चूंकि ट्रेन की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रतिघंटा थी, इसलिए पलक झपकते ही चारों व्यक्तियों की धज्जियां उड़ गई। हादसे की सूचना पर रेलवे, आरपीएफ, जीआरपी व पुलिस अधिकारी जमालपुर की तरफ दौड़ पड़े। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, जीआरपी के अपर पुलिस अधीक्षक मनोज कत्याल व स्थानीय विधायक स्वामी यतीश्वरानंद ने घटनास्थल पर पहुंच हादसे की जानकारी ली।

 हादसा फाटक नंबर 14 से 200 मीटर आगे हुआ

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि चारों लोग रेलवे ट्रैक के आस पास खड़े थे। उन्हें दूर से ट्रेन आते हुए दिखाई, लेकिन वह ट्रेन की रफ्तार भांप नहीं पाए। पल भर में चारों लोग चीथड़ों में तब्दील हो गए। देर रात तक शवों की शिनाख्त का काम चल रहा था। रेलवे के डीआरएम तरुण प्रकाश ने बताया कि चूंकि हादसा फाटक नंबर 14 से 200 मीटर आगे हुआ है, इसलिए प्रथम दृष्टया रेलवे की कोई गलती फिलहाल सामने नहीं आई है। आरपीएफ और सिविल पुलिस के साथ मिलकर इस हादसे की जांच करेगी।

यह भी पढ़ें- गृह क्लेश के चलते राजमिस्त्री ने लगाई फांसी, पुलिस कर रही मामले की जांच

Edited By: Sumit Kumar

हरिद्वार में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!