यहां डोली और डंडी-कंडी से बूथ पहुंचेंगे दिव्यांग मतदाता, जानिए कौन सी सीट पर ज्यादा तो कहां सबसे कम वोटर

Uttarakhand Election 2022 चुनाव में दिव्यांग मतदाताओं के वोट सुनिश्चित करने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग तैयारियों में जुटा हुआ है। दिव्यांग मतदाताओं को मतदान केंद्र तक ले जाने के लिए डोली से लेकर डंडी-कंडी की व्यवस्था भी की जा रही है।

Raksha PanthriPublish: Mon, 17 Jan 2022 02:50 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 02:50 PM (IST)
यहां डोली और डंडी-कंडी से बूथ पहुंचेंगे दिव्यांग मतदाता, जानिए कौन सी सीट पर ज्यादा तो कहां सबसे कम वोटर

शैलेंद्र गोदियाल, उत्तरकाशी। Uttarakhand Election 2022 इस बार विधानसभा चुनाव में दिव्यांग मतदाताओं के वोट सुनिश्चित करने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग तैयारियों में जुटा हुआ है। दिव्यांग मतदाताओं को मतदान केंद्र तक ले जाने के लिए डोली से लेकर डंडी-कंडी की व्यवस्था भी की जा रही है। इसके अलावा हर गांव में दिव्यांग मतदाताओं की सहायता के लिए एनसीसी और एनएसएस के स्वयंसेवियों को दिव्यांग मित्र के रूप में तैनात किया जा रहा है।

इतना ही नहीं, किस मतदान स्थल पर कितने दिव्यांग मतदाता हैं, इसका भी ब्योरा जुटाया गया है। साथ ही दिव्यांगता की स्थिति, दिव्यांग मतदाताओं के घर से पोलिंग बूथ की दूरी की सूची भी तैयार की है। दिव्यांग बूथों पर बिजली, रैंप, व्हील चेयर की व्यवस्था भी की जा रही है। इसके अलावा हर मतदान कर्मचारी और सुरक्षा कर्मियों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी दिव्यांग मतदाता वोट देने के लिए लंबी लाइन में खड़ा न रहे।

यमुनोत्री में सबसे अधिक तो देहरादून कैंट विस में सबसे कम दिव्यांग मतदाता

उत्तराखंड की 70 विधानसभा सीटों पर 68478 दिव्यांग मतदाता हैं। इनमें 43672 पुरुष, जबकि 24805 महिला मतदाता हैं। वहीं विधानसभाओं में सबसे अधिक दिव्यांग मतदाता यमुनोत्री में 1330 और सबसे कम देहरादून कैंट में 177 हैं। प्रदेश के जिलों की बात करें तो सबसे अधिक दिव्यांग मतदाता ऊधमसिंहनगर और रुद्रप्रयाग जिले में सबसे कम दिव्यांग मतदाता हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में कुछ ही दिव्यांग मतदाता वोट दे पाए थे। अधिकांश मतदाता अपनी दिव्यांगता के कारण मतदान केंद्र तक नहीं पहुंच पाए। लेकिन, इस बार राज्य निर्वाचन आयोग के आदेश पर सभी जिलों में मतदाताओं के लिए सुविधाएं जुटाई जा रही हैं।

जिला निर्वाचन अधिकारी मयूर दीक्षित का कहना है कि भारत निर्वाचन आयोग और राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश हैं कि दिव्यांग मतदाताओं की किस तरह सहायता कर सकते हैं। इसलिए उत्तरकाशी जनपद में भी दिव्यांग बूथ बनाने के साथ आने-जाने के लिए दिव्यांग और दिव्यांग मित्र के लिए डोली की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए उत्तरकाशी जनपद को माडल जनपद बनाने की योजना है।

दिव्यांग मतदाताओं की स्थिति

जनपद,दिव्यांग मतदाता

उत्तरकाशी,3244

चमोली,3094

रुद्रप्रयाग,2131

टिहरी,6840

देहरादून,8380

हरिद्वार,9345

पौड़ी,4728

पिथौरागढ़,3286

बागेश्वर,2725

अल्मोड़ा,5558

चम्पावत,2409

नैनीताल,5293

ऊधमसिंहनगर,11467

यह भी पढ़ें- जानिए क्यों उत्तराखंड के 30 मतदान केंद्रों पर चुनाव कराना है टेढ़ी खीर, कौन-कौन सी चुनौतियां हैं सामने

Edited By Raksha Panthri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम