This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

उत्तराखंड: सपना रह गया साबरमती की तर्ज पर रिवर फ्रंट डेवलपमेंट, सिर्फ गंदगी ढोने का जरिया बनी ये दो नदियां

उत्तराखंड: सपना रह गया साबरमती की तर्ज पर रिवर फ्रंट डेवलपमेंट, सिर्फ गंदगी ढोने का जरिया बनी ये दो नदियां

जिस रिस्पना और बिंदाल नदी को एक दौर में सदानीरा कहा जाता था वहां पानी की जगह गंदगी बह रही है। प्रदूषण के कारण ये नदियां मरणासन्न हालत में पहुंच चुकी हैं। पीने योग्य पानी में फीकल कॉलीफॉर्म की मात्रा प्रति 100 एमएल में 1460 एमपीएन तक पाई गई।

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 10:13 AM (IST)Author: Raksha Panthari
Budget2021
 
राज्य चुनें Jagran Local News
  • उत्तर प्रदेश
  • पंजाब
  • दिल्ली
  • बिहार
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • मध्य प्रदेश
  • झारखण्ड
  • राजस्थान
  • जम्मू-कश्मीर
  • हिमाचल प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • पश्चिम बंगाल
  • ओडिशा
  • महाराष्ट्र
  • गुजरात
आपका राज्य