This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

सेनेटरी नैपकिन की बिक्री पर आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं को प्रोत्साहन राशि

महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग की ओर से संचालित स्पर्श सेनेटरी नैपकिन योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष में सभी जिलों को सेनेटरी नैपकिन के 18 लाख पैकेट उपलब्ध कराए जाएंगे। आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं के माध्यम से महिलाओं और किशोरियों को इन्हें वितरित किया जाएगा।

Sumit KumarSun, 30 May 2021 08:40 AM (IST)
सेनेटरी नैपकिन की बिक्री पर आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं को प्रोत्साहन राशि

राज्य ब्यूरो, देहरादून: महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग की ओर से संचालित 'स्पर्श' सेनेटरी नैपकिन योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष में सभी जिलों को सेनेटरी नैपकिन के 18 लाख पैकेट उपलब्ध कराए जाएंगे। आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं के माध्यम से महिलाओं और किशोरियों को इन्हें वितरित किया जाएगा। छह नैपकिन के एक पैकेट की कीमत छह रुपये निर्धारित की गई है। विभागीय मंत्री रेखा आर्य ने बताया कि सेनेटरी नैपकिन की बिक्री पर आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं को प्रति पैकेट एक रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रेखा आर्य ने कहा कि महिलाओं व किशोरियों के स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए स्पर्श सेनेटरी नैपकिन योजना शुरू की गई है। इसके तहत कम लागत में उत्तम गुणवत्ता के सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। कोरोनाकाल में सीमित आय को देखते हुए प्रति पैकेट पांच रुपये चालीस पैसे की सब्सिडी दे रही है। इसके बाद न्यूनतम छह रुपये प्रति पैकेट की दर से नैपकिन की बिक्री की जा रही है।

यह भी पढ़ें- Covid Curfew In Uttarakhand: उत्तराखंड में हफ्तेभर बढ़ सकता है कोविड कर्फ्यू, कुछ रियायत दे सकती है सरकार

उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के समय में माहवारी स्वच्छता उत्पाद में यह सब्सिडी महिलाओं के स्वास्थ्य के प्रति सरकार की सजगता, संवेदनशीलता व प्राथमिकता को दर्शाती है। उन्होंने बताया कि सेनेटरी नैपकिन की बिक्री पर आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं को संबंधित बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय से प्रति पैकेट एक रुपये के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ता कोरोनाकाल में फ्रंटलाइन वर्कर के तौर पर काम कर रही है। यह प्रोत्साहन राशि उनके मनोबल को बढ़ाएगी।

यह भी पढ़ें- योगगुरु बाबा रामदेव का दावा, देश की आधी से ज्यादा कोरोना संक्रमित आबादी को हमने बचाया

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

देहरादून में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!