Haridwar Kumbh Mela 2021: मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत बोले- तय अवधि तक चलेगा कुंभ मेला, इंटरनेट मीडिया पर चर्चाओं को बताया निराधार

Haridwar Kumbh Mela 2021हरिद्वार कुंभ मेला निर्धारित अवधि यानी 30 अप्रैल तक पूरा चलेगा। मेला अवधि कम करने या उसमें किसी तरह के फेरबदल की चर्चा को प्रदेश सरकार ने निराधार बताया है। बुधवार को इंटरनेट मीडिया पर मेले की अवधि कम करने की चर्चाएं जोरों पर रहीं।

Sumit KumarPublish: Wed, 14 Apr 2021 07:21 PM (IST)Updated: Wed, 14 Apr 2021 10:55 PM (IST)
Haridwar Kumbh Mela 2021: मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत बोले- तय अवधि तक चलेगा कुंभ मेला, इंटरनेट मीडिया पर चर्चाओं को बताया निराधार

राज्य ब्यूरो, देहरादून: हरिद्वार कुंभ मेला निर्धारित अवधि, यानी 30 अप्रैल तक पूरा चलेगा। मेला अवधि कम करने या उसमें किसी तरह के फेरबदल की चर्चा को प्रदेश सरकार ने निराधार बताया है।  कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने के कारण बुधवार को इंटरनेट मीडिया पर हरिद्वार कुंभ मेले की अवधि कम करने को लेकर चर्चाएं जोरों पर रहीं। हालांकि बुधवार देर शाम प्रदेश सरकार ने ऐसी चर्चाओं को भ्रामक करार दिया।

मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने ऐसी चर्चाओं को बेबुनियाद करार दिया। दरअसल कोरोना महामारी की वजह से ही हरिद्वार कुंभ मेले की अवधि को पहले ही घटाकर मात्र एक महीने तक सीमित किया जा चुका है। प्रदेश सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक कुंभ मेला अवधि एक अप्रैल से 30 अप्रैल तक रहेगी। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 'जागरण ' से बातचीत में कहा कि हरिद्वार कुंभ मेला अवधि तय अवधि तक पूरा चलेगा। इसकी अवधि घटाने की चर्चा भ्रामक है। अब तक हुए शाही स्नान में कोविड-19 की गाइडलाइन का पूरा पालन किया गया। अब एक पर्व व एक शाही स्नान बचे हैं। 21 अप्रैल को रामनवमी पर पर्व स्नान है। इसके बाद 27 अप्रैल को चैत्र मास पूर्णिमा का शाही स्नान है। इस दौरान कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। सरकार की ओर से सावधानी बरती जा रही है। 

यह भी पढ़ें- कुंभ में तार-तार हुए Covid के नियम, तीन दिन में हर की पैड़ी पर जुटे लाखों श्रद्धालु; संक्रमितों का आंकड़ा 1000 के करीब

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हरिद्वार कुंभ मेले के संबंध में मुख्य सचिव ओम प्रकाश एवं स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी के साथ विचार-विमर्श किया। उन्होंने कुंभ मेले में कोरोना से बचाव को लेकर किए जा रहे उपायों, कोविड-19 की जांच और टीकाकरण के बारे में भी जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेला स्थल पर तमाम जरूरी व्यवस्थाओं को चाक-चौबंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। 

उधर, कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत ने कहा कि कुंभ मेला जनवरी में शुरू होना था, लेकिन कोरोनाकाल को देखते हुए राज्य सरकार ने अप्रैल में इसे शुरू करने का फैसला किया। केंद्र की एसओपी के अनुसार स्थिति के मद्देनजर मेला की अवधि को कम किया जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि मेले की अवधि कम करने के संबंध में अभी मेरे पास जानकारी नहीं है। 

यह भी पढ़ें- Haridwar Kumbh Mela 2021: मेष संक्रांति स्नान पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्‍था की डुबकी

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By Sumit Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept