उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 : 38 विधानसभाओं में छह लाख मतदाताओं का पलायन सरकार की विफलता

Uttarakhand Vidhan Sabha Election 2022 आज सोमवार को ऋषिकेश के कांग्रेस भवन में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव संगठन विजय सारस्वत ने कहा कि 38 विधानसभाओं में छह लाख मतदाताओं का पलायन होना सरकार की विफलता है।

Sunil NegiPublish: Mon, 17 Jan 2022 04:25 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 04:25 PM (IST)
उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 : 38 विधानसभाओं में छह लाख मतदाताओं का पलायन सरकार की विफलता

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव संगठन विजय सारस्वत ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार पलायन रोकने में पूरी तरह असफल साबित हुई है। पिछले पांच वर्षों में उत्तराखंड की 38 पर्वतीय विधानसभाओं में छह लाख मतदाता कम हुए हैं, जो इस बात की तस्दीक करते हैं कि प्रदेश में किस स्तर पर पलायन हो रहा है।

सोमवार को ऋषिकेश के कांग्रेस भवन में आयोजित पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव संगठन विजय सारस्वत ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड में पहाड़ की जवानी और पानी को पहाड़ के काम में लाने का वादा कर सत्ता हासिल की थी। मगर, सरकार न तो युवाओं को रोजगार दे पाई और ना ही पहाड़ से पलायन ही रोके पाई।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने वर्ष 2017 में लाइन पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए पलायन आयोग का गठन किया था। मगर, हकीकत यह है कि इन पांच वर्षों में सबसे अधिक पलायन हुआ है। आंकड़े बनाते हुए उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 में उत्तराखंड के 38 पर्वतीय विधानसभा में 36 लाख 24 हजार मतदाता थे, जो वर्ष 2022 में घटकर 30 लाख रह गए हैं। इससे साफ है कि छह लाख मतदाता इन विधानसभाओं से पलायन कर चुके हैं। यह सिर्फ मतदाताओं का आंकड़ा है, इनमें बच्चों की संख्या जोड़ दी जाए तो यह आंकड़ा कई गुना बढ़ जाएगा।

उन्होंने कहा कि जो सरकार पलायन नहीं रोक पाई, युवाओं को रोजगार नहीं दे पाई अब जनता उसे बाहर का रास्ता दिखाने वाली है। उन्होंने क्षेत्रीय विधायक के कार्यों पर भी सवाल उठाया। कहा कि ऋषिकेश विधायक, अपनी विधायक निधि को खर्च करने में फिसड्डी साबित हुए हैं। कोई बड़ी योजना पिछले 15 वर्षों में ऋषिकेश में नहीं बनी। उपलब्धि के नाम पर विधायक अपनी विधायक निधि के कार्यों को गिना रहे हैं।

आचार संहिता लागू होने से ठीक पहले विधायक निधि से कार्यों की घोषणा की गई। जबकि यह कार्य वित्तीय सत्र आरंभ होने पर ही किए जाने चाहिए थे। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश में महिला महाविद्यालय, गंगा की धारा को स्थाई रूप से घाट पर लाने, नगर क्षेत्र में पार्किंग सहित तमाम मुद्दों पर कोई काम नहीं किया गया। कांग्रेस इन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएगी। उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 44 से 46 सीट जीतेगी। कांग्रेस संगठन जिसे भी अपना प्रत्याशी घोषित करेगी, कार्यकर्ता पूरी निष्ठा के साथ उसके लिए काम करेंगे। इस अवसर पर पार्षद राकेश मियां, राहुल शर्मा, सरल शर्मा, हरीश गावड़ी, राघव भटनागर, राजभर आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें:- Uttarakhand Election 2022: भाजपा में शामिल हुईं सरिता आर्य, चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका

Edited By Sunil Negi

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept