व्यवस्थाएं बहाल करने बदरीनाथ पहुंचा देवस्थानम बोर्ड का दल

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड का 15 सदस्यीय अग्रिम दल यात्रा व्यवस्थाएं बहाल करने के लिए बुधवार को जोशीमठ से बदरीनाथ पहुंचा। दल ने वहां बारिश व हल्की बर्फबारी के बीच शीतकाल के दौरान बर्फबारी से हुए नुकसान का जायजा लिया।

Raksha PanthriPublish: Wed, 21 Apr 2021 01:10 PM (IST)Updated: Wed, 21 Apr 2021 01:10 PM (IST)
व्यवस्थाएं बहाल करने बदरीनाथ पहुंचा देवस्थानम बोर्ड का दल

संवाद सहयोगी, गोपेश्वर (चमोली)। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड का 15 सदस्यीय अग्रिम दल यात्रा व्यवस्थाएं बहाल करने के लिए बुधवार को जोशीमठ से बदरीनाथ पहुंचा। दल ने वहां बारिश व हल्की बर्फबारी के बीच शीतकाल के दौरान बर्फबारी से हुए नुकसान का जायजा लिया। धाम के कपाट आगामी 18 मई को ब्रह्ममुहूर्त में 4.15 बजे खोले जाने हैं।

बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि अग्रिम दल में सुपरवाइजर भागवत मेहता, वायरमैन संजय भंडारी, मंजेश भुजवाण, विनोद फर्स्‍वाण सहित 15 स्वयंसेवक शामिल है। यह दल बदरीनाथ धाम में मंदिर के बाह्य परिसर, दर्शन पंक्ति, तप्तकुंड परिसर, बस टर्मिनल, धर्मशालाओं व पहुंच मार्ग की मरम्मत और सफाई, बिजली-पानी की बहाली समेत अन्य यात्रा तैयारियां करेगा। बताया कि सफाई कर्मियों का एक दल 22 अप्रैल को बदरीनाथ धाम के लिए रवाना होगा।

इससे पूर्व बोर्ड के उप मुख्य कार्याधिकारी सुनील तिवारी व वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी गिरीश चौहान ने अवर अभियंता गिरीश रावत व दफेदार कृपाल सनवाल की अगुआई में दल को बदरीनाथ के लिए रवाना किया। इस अवसर पर धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, नृसिंह मंदिर प्रभारी संदीप कपरवाण, प्रशासनिक अधिकारी कुलदीप भट्ट, कमेटी सहायक संजय भट्ट, प्रबंधक भूपेंद्र राणा, पुजारी सुशील डिमरी, रामप्रसाद थपलियाल, चंदू भट्ट आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- कोविड-19 महामारी के चलते प्रतीकात्मक होना चाहिए कुंभ मेला

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By Raksha Panthri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept