This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Badrinath Yatra 2021: 18 मई को खुलेंगे बदरीनाथ धाम के कपाट, टिहरी राज दरबार में तय हुई तारीख

Badrinath Yatra 2021 देश के प्रसिद्ध चार धामों में से एक श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि तय कर दी गई है। 18 मई को ब्रह्म बेला में प्रातः 4 बजकर 15 मिनट पर श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे।

Raksha PanthriTue, 16 Feb 2021 04:44 PM (IST)
Badrinath Yatra 2021: 18 मई को खुलेंगे बदरीनाथ धाम के कपाट, टिहरी राज दरबार में तय हुई तारीख

संवाद सहयोगी गोपेश्वर।  वसंत पंचमी के पावन पर्व पर बदरीनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि घोषित कर दी गई। धाम के कपाट 18 मई को ब्रह्म बेला में 4.15 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे। वहीं, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट परंपरा के अनुसार 14 मई को अक्षय तृतीया के दिन खोले जाएंगे, जबकि केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि 11 मार्च को महाशिवरात्रि पर्व पर तय की जाएगी।

मंगलवार को टिहरी जिले में स्थित नरेंद्रनगर राजमहल में विधिविधान के साथ पूजा-अर्चना और हवन किया गया। इसके बाद टिहरी के महाराजा मनुजेंद्र शाह और बदरीनाथ धाम के रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी की उपस्थिति में राजपुरोहित कृष्ण प्रसाद उनियाल व संपूर्णानंद जोशी ने पंचांग गणना कर तिथि और शुभ मुहूर्त निर्धारित किया। परंपरा के अनुसार टिहरी राजघराने के मुखिया महाराजा मनुजेंंद्र शाह ने तिथि और मुहूर्त की घोषणा की। कपाट खोलने की प्रक्रिया के तहत 29 अप्रैल से गाडू घड़ा (तेल कलश) यात्रा का शुभारंभ किया जाएगा। 

इससे पहले डिमरी पंचायत के प्रतिनिधि भगवान बदरीनाथ का तेल कलश लेकर राजमहल पहुंचे। यहां पारंपरिक वाद्य यंत्रों के साथ उनका स्वागत किया गया। कपाट खुलने पर भगवान बदरीनाथ के अभिषेक के लिए राजमहल में ही सुहागिनें तिलों का तेल पिरोती हैं। इस बार यह कार्यक्रम 29 अप्रैल संपन्न होगा। इसी दिन तेल को कलश में भर यात्रा बदरीनाथ के लिए रवाना होगी। 

 

इस अवसर पर टिहरी सांसद  महारानी राज्यलक्ष्मी शाह, गढ़वाल सांसद तीरथ ङ्क्षसह रावत, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्याधिकारी बीडी ङ्क्षसह, उत्तराखंड चार धाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष शिव प्रसाद ममगाईं, पूर्व काबीना मंत्री मोहन ङ्क्षसह रावत गांववासी, डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत के कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद डिमरी, एडवोकेट हरीश डिमरी, धर्मानंद डिमरी, प्रबंधक विपिन तिवारी, पंडित मोहित सती, अमर बेलवाल, उदयवीर रमोला, डॉ. हरीश गौड़, अमित राणा, रमेश डिमरी, चंद्रबल्लभ डिमरी आदि मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें- Tehri Lake Festival: टिहरी झील के किनारे बनेगा अंतरराष्ट्रीय वैदिक महाविद्यालय

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

चमोली में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!