सोनभद्र के जिलाधिकारी बोले - 'ईवीएम को छूने वाले हर हाथ में गलब्स और चेहरे पर होगा मास्क'

मतदाता सुरक्षित रहें इसके लिए भी मुकम्मल इंतजाम किए जा रहे हैं। जिले के सभी मतदान केंद्रों पर पहुंचने वाले मतदाताओं के चेहरे पर मास्क व ईवीएम को छूने से पहले हाथ में गलब्स हो इसके लिए व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

Abhishek SharmaPublish: Tue, 18 Jan 2022 05:38 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 05:38 PM (IST)
सोनभद्र के जिलाधिकारी बोले - 'ईवीएम को छूने वाले हर हाथ में गलब्स और चेहरे पर होगा मास्क'

सोनभद्र, जागरण संवाददाता। कोरोना की तीसरी लहर के बीच सोनभद्र में मतदान प्रतिशत बढ़ाने की जिम्मेदारी जिला प्रशासन ने उठाई है। मतदाता सुरक्षित रहें, इसके लिए भी मुकम्मल इंतजाम किए जा रहे हैैं। जिले के सभी मतदान केंद्रों पर पहुंचने वाले मतदाताओं के चेहरे पर मास्क व ईवीएम को छूने से पहले हाथ में गलब्स हो, इसके लिए व्यवस्थाएं की जा रही हैं। विधानसभा चुनाव में कम से कम 70 फीसद मतदान हो, इसलिए लगातार जागरूकता अभियान चलाने व बीएलओ के माध्यम से मतदाताओं के घर तक पर्ची भेजने पर जिला प्रशासन काम कर रहा है। कोरोना संक्रमण के बीच मतदाताओं को सुरक्षित रखते हुए मतदान प्रतिशत बढ़ाने की सुनियोजित तैयारी के संबंध में जिलाधिकारी टीके शिबु से सतीश सिंह ने विस्तृत बातचीत की।

कोविड के बीच मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए क्या है रणनीति?

- मेरी पहली प्राथमिकता मतदाताओं को सुरक्षित रखना है। मतदान के दौरान सभी लोगों के चेहरे पर मास्क हो, यह अपील आपके माध्यम से करना चाहता हूं। ऐसे लोग जो बिना मास्क के पहुंचेंगे, उनके लिए पोलिंग बूथ पर यह उपलब्ध होगा। सभी मतदान कार्मिकों के लिए मास्क लगाना अनिवार्य है। इसके अलावा ईवीएम छूने से पहले सभी को गलब्स उपलब्ध कराया जाएगा। आयोग के निर्देश पर जनपद में करीब 14 लाख गलब्स की व्यवस्था की जा रही है। मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। कम मतदान वाले पोलिंग बूथ को चिह्नित करने के साथ ही वहां विशेष प्रयास किए जाएंगे।

बुजुर्ग व दिव्यांग मतदाताओं के लिए क्या रहेगा खास?

- निर्वाचन आयोग ने इस बार बुजुर्ग व दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था करने को निर्देशित किया है। जनपद के करीब 25 हजार दिव्यांग व बुजुर्ग मतदाताओं को यह सुविधा उपलब्ध हो, इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैैं। साथ ही कोविड पाजिटिव मरीजों को भी मतदान की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग सक्रिय रहेगा। सभी केंद्रों पर थर्मल स्कैनर की व्यवस्था रहेगी।

मतदान कर्मियों की सुरक्षा को लेकर क्या है रणनीति?

- मतदान में लगे सभी कर्मियों को वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना अनिवार्य कर दिया गया है। मतदान के दौरान कर्मियों को मास्क लगाने के साथ-साथ लगातार हाथ सैनिटाइज करने को भी कहा गया है। चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारी अगर वैक्सीन के दोनों डोज नहीं लगवाते हैं तो उन पर कार्रवाई भी की जाएगी। पोलिंग पार्टी को रवानगी स्थल से बूथ तक पहुंचाने वाले वाहन में भी उन्हें तय नियम के अनुसार बैठाया जाएगा ताकि किसी प्रकार की समस्या न हो।

अपील : सभी मतदाता लोकतंत्र के महापर्व में करें भागीदारी

लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व होता है मतदान। इसलिए सभी लोग इसमें बढ़चढ़ कर भागीदारी करें। इस बार 70 फीसद तक मतदान करने के लिए सभी मतदाता घर से निकलें। ओबरा विधानसभा क्षेत्र में मतदान का प्रतिशत कम होता है। यहां के मतदाताओं से अपील है कि वे अपनी लोकतांत्रिक जिम्मेदारी की अनुभूति करते हुए सात मार्च को घर से निकलें और मतदान जरूर करें। सुरक्षित व शांतिपूर्ण ढंग से मतदान के लिए प्रशासनिक तंत्र पूर्णत: प्रतिबद्ध है। बिना किसी भय व तनाव के अपने पोलिंग बूथ तक पहुंचकर मतदान करें। समय रहते मतदाता सूची एक बार जरूर देख लें, ताकि मतदान के दिन किसी तरह की समस्या न हो।

Edited By Abhishek Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept