This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

वाराणसी में एक लाख के इनामी मोनू चौहान की पुलिस मुठभेड़ में मौत, दो पुलिस कर्मी भी घायल

Police Incounter in Varanasi पुलिस के अनुसार सारनाथ के रिंगरोड पर लालपुर के समीप बाइक सवार बदमाशों का पीछा कर रही पुलिस टीम पर बदमाशों ने फायरिंग कर भागने का प्रयास किया। वहींं वारदात में पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

Abhishek SharmaSun, 22 Nov 2020 09:52 PM (IST)
वाराणसी में एक लाख के इनामी मोनू चौहान की पुलिस मुठभेड़ में मौत, दो पुलिस कर्मी भी घायल

वाराणसी, जेएनएन। पांडेयपुर में महिला को गोली मारने वाले आरोपी मोनू चौहान से रविवार रात करीत साढ़े सात बजे ऐढ़े में पु‍लिस की मुठभेड़ हो गई। पु‍लिस के अनुसार सारनाथ के रिंगरोड पर लालपुर के समीप बाइक सवार बदमाश का पीछा कर रही पुलिस टीम पर उसने फायरिंग कर भागने का प्रयास किया। हालांकि, पुलिस मुठभेड़ में एक लाख का इनामी मोनू गंभीर रूप से घायल हो गया और इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

वहींं वारदात में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए जिनको आनन फानन अस्‍पताल भेज दिया गया। मुठभेड़ के दौरान उपनिरीक्षक राजकुमार पांडेय सिंह और सिपाही विनय को सिंह मेडिकल अस्‍पताल मेंं भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत खतरे के बाहर है। मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच और सारनाथ पु‍लिस के अलावा लालपुर पुलिस भी  मौजूद रही। वहीं पुलिस की गोली लगने से गंभीर रूप से घायल बदमाश की कबीरचौरा अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी। मौत के बाद मोनू चौहान के परिजनों को सूचना देने के साथ ही विधिक कार्रवाई के बाद शव का पंचनामा भरकर पुलिस ने पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया।   

 

शाम करीब सात बजे बदमाश के क्षेत्र में सक्रिय होने की जानकारी के बाद पुलिस कर्मी सक्रिय हुए और साढ़े सात बजे बदमाश संग मुठभेड़ शुरू हुई तो क्षेत्र में गोलियां तड़तड़ाने लगीं। पुलिस ने चारों ओर से बदमाश को घेर लिया तो सीओ क्राइम ब्रांच अमरेश सिंह बघेल और क्राइम ब्रांच प्रभारी अश्विनी पांडेय के बुलेटप्रूफ जैकेट पर बदमाश की मुठभेड़ के दौरान गोली लग गई। मुठभेड़ में घायल अपराधी मोनू चौहान के पास से एक पिस्टल .32 बोर, एक तमंचा, एक अपाचे मोटर साइकिल, भारी मात्रा में कारतूस आदि बरामद हुआ है।

कुख्यात अपराधी मोनू चौहान द्वारा दीपावली के समय तीन दिनों में वाराणसी में दो सनसनीखेज शूटआउट की घटना को अंजाम दिया गया था। घड़ी व्यापारी श्याम बिहारी मिश्रा की गोली मारकर हत्या और महिला प्रेमा राजभर को गोली मारकर घायल किया था। वर्ष 2015 में वाराणसी के थाना कोतवाली क्षेत्र में कबीरचौरा में एसटीएफ की टीम से हुई एक मुठभेड़ में कुख्यात गैंगस्टर सनी सिंह मारा गया था जिसमें उक्त मोनू चौहान भागने में सफल हो गया था। इसके विरुद्ध वाराणसी के विभिन्न थानों में लगभग डेढ़ दर्जन अभियोग पंजीकृत हैं।

पुलिस के अनुसार मुठभेड़ के दौरान चौकी प्रभारी राजकुमार पांडेय और क्राइम ब्रांच के कांस्टेबल विनय सिंह को गोली लगी है। वहीं पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बाइक सवार बदमाश मोनू चौहान को भी गोली लगी और उसे अस्‍पताल भेजा गया है। मुठभेड़ होने की जानकारी के बाद मौके पर एसपी सिटी समेत कई थानों की फोर्स पहुंच गई। पुलिस अधिकारियाें के अनुसार दस हजार रुपये बकाए में महिला को गोली मारने के आरोपी मोनू पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था। वही क्षेत्र में उसकी जानकारी होने के बाद पुलिस ने मुठभेड़ में उसे गोली मार दी और घायल होने के बाद उसे अस्‍पताल में भर्ती कराया गया जहां उसने दम तोड़ दिया। जबकि दूसरा साथी मौके पर अंधेरे का फायदा उठाते हुए फरार करने की कोशिश की लेकिन वह भी पुलिस के हत्‍थे चढ़ गया।

Edited By: Abhishek Sharma

वाराणसी में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!