This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Hello Doctor : कीमो व रेडियो थेरेपी का दुष्प्रभाव कम करती हैं आयुर्वेदिक औषधियां

सहजन पारिजात गिलोय आदि वनस्पति औषधियों के सेवन से स्थिति में सुधार ला सकते हैं। यह कहना है चिकित्सा विज्ञान संस्थान बीएचयू स्थित संज्ञाहरण विभाग के प्रोफेसर एंड हेड डा. केके पांडेय का। वे दैनिक जागरण के हैलो डॉक्टर कार्यक्रम में पाठकों के सवालों के जवाब दे रहे थे।

Saurabh ChakravartyWed, 10 Mar 2021 07:57 PM (IST)
Hello Doctor : कीमो व रेडियो थेरेपी का दुष्प्रभाव  कम करती हैं आयुर्वेदिक औषधियां

वाराणसी, जेएनएन। बदल रही दिनचर्चा, खानपान में बदलाव के कारण कैंसर के साथ ही अन्य समस्याएं भी हो रही है। आज जो घुटने में दर्द या अन्य परेशानी बढ़ी है इसका भी प्रमुख कारण लाइफ स्टाइल में बदलाव ही है। हां, अगर अपने आप को स्वस्थ रखना है तो अपनी दिनचर्या में सुधार लाना होगा। अगर आपको कैंसर के उपचार आपरेशन, कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी के बाद साइड इफेक्ट हो रहा है तो इसका आयुर्वेद में भी बेहतर उपचार है। इससे आप रोगी के जीवन को गुणवत्ता युक्त बना सकते हैं। सहजन, पारिजात, गिलोय आदि वनस्पति औषधियों के सेवन से स्थिति में सुधार ला सकते हैं। यह ध्यान रहें कि आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह जरूरत लें। यह कहना है चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बीएचयू स्थित संज्ञाहरण विभाग के प्रोफेसर एंड हेड डा. केके पांडेय का। वे बुधवार को दैनिक जागरण कार्यालय में हैलो डॉक्टर कार्यक्रम में फोन पर पाठकों के सवालों के जवाब दे रहे थे।

मेरे 45 वर्षीय पुत्र की स्थिति दिन ब दिन खराब होती जा रही है। जनवरी में समस्या शुरू हुई। खाना बंद कर दिया, दो बोतल खून भी चढ़ा लेकिन अब बिस्तर से उठ नहीं पाता। मुझे भी गठिया की शिकायत है, सीढ़ी चढऩे में परेशानी है।

-सरोज रानी, महमूरगंज

अपने पुत्र को तत्काल दिखाएं। जांच करने के बाद ही पता चल पाएगा कि आखिर यह समस्या क्यों हो रही है। भर्ती कर उपचार करने की भी जरूरत पड़ सकती है। आपको गठिया से परेशानी है तो आप ज्यादा देर न तो खड़ी रहें और न ही अधिक चलें। सहजन, पारिजात, गिलोय का काढ़ा सेवन करने से राहत मिलेगी।

-गांठ का आपरेशन हुआ था, लेकिन स्थिति और खराब होती जा रही है।

- मीना सिंह, सारनाथ

आपका आयुर्वेद में भी उपचार संभव है। गिलोय, हर श्रृंगार, सहजन, पीपल, तुलसी, पपीता आदि का काढ़ा सेवन करने से आपको राहत मिलेगी। इसके अलावा गुगलु, सतावरी, अश्वगंधा पाउडर एक-एक चम्मच दूध के साथ ले सकती हैं।

-मुंह का कैंसर के कारण सर्जरी कराई थी। अब मसूड़े में सूजन है।

-अनिल गुप्ता, सदर बाजार, आजमगढ़

-पीपल, पपीता, पारिजात, शीशम, गिलोय का पाउडर बनाकर सेवन करें। साथ ही आयुर्वेदिक दवा गुगलु की गोली भी ले सकते हैं। आप ब्रोकली की सब्जी का भी सेवन करें।

-पत्नी के घुटने में दर्द रहता है। क्या करें।

-सुरेश सिंह, गाजीपुर

सबसे पहले तो पत्नी का वजन कम कराएं। इसके लिए 200 ग्राम मेथी व तीसी में 50 ग्राम दालचीनी का चूर्ण बना लें। इसका पानी के साथ एक चम्मच सुबह- शाम सेवन करें। कैल्शियम की कमी हो तो इसके लिए दवा लें।

-एड़ी, कमर व घुटने में दर्द रहती है। एमआरआई जांच भी करा चुकी हूं।

-मंजू, चंदौली

-आप झुककर काम करने से परहेज करें। सहजन, पारिजात का सेवन कर सकती हैं।

-मेरी पत्नी की उम्र 65 साल है। उन्हें गठिया की समस्या है। -अमित, जौनपुर

हवाई चप्पल या प्लास्टिक चप्पल पहनने से परहेज करें। सहजन, पारिजात का पावडर बनाकर सेवन किया जा सकता है।

-घुटने में अक्सर ही दर्द रहता है। -राम बचन यादव, बलिया

-घुटने का मोजा पहनें और प्लास्टिक की चप्पल पहनने से बचें। साथ ही प्लास्टिक की जगह लकड़ी की कुर्सी पर बैठे।

-कैंसर का दो माह पूर्व आपरेशन हुआ था। कमर की हड्डी में दर्द हो रहा है। -करुणा शंकर मिश्र, सारनाथ

सहजन, पारिजात का काढ़ा सुबह-शाम सेवन करने से आराम मिलेगा।

-कैंसर के उपचार के लिए आपरेशन, थेरेपी हुई लेकिन समस्या बढ़ गई है। -कुमुद मिश्रा, सुंदरपुर

रेडियोथेरेपी के बाद दुष्प्रभाव बढ़ जाता है। सहजन, पपीते व पारिजात के पत्ते का काढ़ा बनाकर सेवन करें। साथ ही बीएचयू के आयुर्वेद विभाग में आकर आप दिखा सकती हैं।

-कमर, पेट में दर्द रहता है। एमआरआइ के बाद भी आराम नहीं है।

-रामनाथ रावत, सोनभद्र,

आप कमर में बेल्ट बांधे और तेल से मालिश करें।

- घुटने में सूजन और दर्द है। साथ ही बीपी की भी शिकायत है।

-दया शंकर, वाराणसी

पालथी मारकर बैठने से बचें। साथ अधिक देर तक खड़ा रहने या पैदल चलने से भी परहेज करें। आप आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन कर सकते हैं।

पति को ट्यूमर का पिछले साल आपरेशन हुआ था। स्थिति ठीक नहीं हैं।

- नीलम प्रभा, वाराणसी अस्सी

आप चाहें तो आयुर्वेदिक उपचार से अपने पति को ठीक करा सकती हैं। चिकित्सकीय सलाह से उपचार शुरू करा दें।

- गर्दन, घुटने में दर्द रहता है।

- रमाशंकर यादव, सिकंदरपुर-बलिया

-तकिया लगाना बंद कर दें और मालिश कराएं। तकिया की बजाय चादर को गोल मोड़कर गर्दन के नीचे रखकर सोएं।

-बुआ का पेट के कैंसर का आपरेशन किया गया, लेकिन स्थिति ठीक नहीं है।

- दीप नंदिनी, बलिया

-अगर आपरेशन के दुष्प्रभाव से स्थिति खराब हुई हैं तो आप उन्हें लाकर एकबार दिखाएं। वीडियो बनाकर पूरी रिपोर्ट भी ला सकती हैं।

वाराणसी में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!