This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

मंदुरी एयरपोर्ट से उड़ान को एरोड्रम सेफ गार्डिंग, सेवा के लिए एयरपोर्ट अथार्टी आफ इंडिया गंभीर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मत्वाकांक्षी योजना उड़ान अब जब जिले में परवान चढऩे जा रही है।

Abhishek SharmaSat, 22 Feb 2020 10:14 AM (IST)
मंदुरी एयरपोर्ट से उड़ान को एरोड्रम सेफ गार्डिंग, सेवा के लिए एयरपोर्ट अथार्टी आफ इंडिया गंभीर

आजमगढ़, जेएनएन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मत्वाकांक्षी योजना 'उड़ान' अब जब जिले में परवान चढऩे जा रही है। विस्तारीकरण के बाद मंदुरी एयरपोर्ट से अप्रैल में दिल्ली व लखनऊ से लिए हवाई सेवा की सौगात न सिर्फ जनपदवासियों को मिलेगी। बल्कि पूर्वांचल के जिले भी लाभांवित होंगे। सुरक्षित हवाई सेवा को लेकर एयरपोर्ट अथार्टी आफ इंडिया भी गंभीर हो गया है। आजमगढ़ सहित प्रदेश के संबंधित जिलों के उप जिलाधिकारियों को प्रशिक्षित किया गया। इधर, हवाई जहाज की लैंडिंग व उड़ान में कोई दिक्कत न हो,के लिए एटीसी (एयर ट्रैफिक कंट्रोल) टावर की ऊंचाई भी बढ़ा दी गई।

रीजनल कनेक्टविटी के स्कीम 'उड़ान' के तहत जिले को देश के कोने-कोने से जोड़ा जाएगा। योजना के तहत मिनिमम सुविधाओं से लैस एयरपोर्ट के देखरेख की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश सरकार की रहेगी। एयरपोर्ट अथार्टी आफ इंडिया की तरफ से पिछले 13 व 14 फरवरी को एरोड्रम सेफ गार्डिंग के संबंध में लखनऊ में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था। जिसमें जिले से गए उप जिलाधिकारी सदर (तत्कालीन सगड़ी तहसील) रावेंद्र ङ्क्षसह शामिल हुए। उन्होंने कार्यशाला में कई प्रमुख बिंदुओं के बारे में जानकारी दी गई। इसमें मुख्य रूप से रनवे के मध्य से 20 किमी के दायरे में किस कितनी ऊंचाई तक के मकान बनेंगे। उसके संबंध में जानकारी दी गई। इसकी विस्तृत जानकारी सीसीजेडएम (कलर कोड जोनल मैप) को एयरपोर्ट अथार्टी की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा। जिससे रनवे से कितनी दूरी पर आगे जाने पर मकान की ऊंचाई होगी, उसकी जानकारी हो सकेगी।

एयरपोर्ट टर्मिनल भवन के अंदर बढ़ेगी हरियाली

लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई हड्डे के मुख्य टर्मिनल भवन में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा हरियाली बढ़ाने की तैयारी की गई है। इसके अलावा प्लास्टिक की बोतलों को नष्ट करने के लिए भी मशीन लगाई जाएगी। सितंबर-2018 में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा उसके अधीन आने वाले देश के सभी एयरपोर्ट पर एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर रोक लगाने का आदेश है। वर्ष 2019 में वाराणसी एयरपोर्ट को एकल उपयोग होने वाले प्लास्टिक से मुक्त घोषित कर दिया गया। अभी तक एयरपोर्ट पर प्लास्टिक की बोतलें यात्रियों द्वारा उपयोग में लाई जाती हैं। इन प्लास्टिक की बोतलों को नष्ट करने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा मशीन लगाई गई है। एयरपोर्ट निदेशक आकाशदीप माथुर ने बताया कि एयरपोर्ट को एकल उपयोग प्लास्टिक मुक्त बनाए रखेंगे, पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए टर्मिनल भवन में हरियाली बढ़ाई जाएगी। 

Edited By: Abhishek Sharma

वाराणसी में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!