पत्नी पर लांछन लगा इंस्पेक्टर ने दुत्कार कर भगाया था

पत्नी पर लांछन लगा इंस्पेक्टर ने दुत्कार कर भगाया था

JagranPublish: Mon, 04 Jul 2022 04:01 AM (IST)Updated: Mon, 04 Jul 2022 04:01 AM (IST)
पत्नी पर लांछन लगा इंस्पेक्टर ने दुत्कार कर भगाया था

पत्नी पर लांछन लगा इंस्पेक्टर ने दुत्कार कर भगाया था

फोटो - 22 से 26

- प्रेमीयुगल की मौत का मामला-

- कोतवाली के एक इंस्पेक्टर पर मृतका के पति ने लगाए गंभीर आरोप

- शव पांच दिन पुराने होने से नहीं स्पष्ट हो सकी मौत की वजह, बिसरा सुरक्षित

:::::::::::::::::::::::::::::::::::

जागरण संवाददाता, (उन्नाव) : हसनगंज क्षेत्र के हिलालमऊ के मजरा नारेखेड़ा निवासी रामलखन रावत की 27 वर्षीय पत्नी शांतिदेवी व उसके घर के सामने रहने वाले 24 वर्षीय अविवाहित अनुज सिंह के शव शनिवार को घर से दो किमी दूर चरागाह में एक साथ चिपके पड़े मिले थे। पुलिस ने जहर खाने का अंदेशा जताया था, जबकि मृतका का पति रामलखन चीख-चीखकर हत्या किए जाने की बात कह रहा था। रविवार को पोस्टमार्टम हाउस में मौजूद पति रामलखन का दर्द फिर से छलक उठा। बताया कि 28 जून को पत्नी के लापता होने के बाद अगले दिन वह कोतवाली पहुंचा। एक निरीक्षक ने उसका शिकायती पत्र लिया और हंसी उड़ाते हुए अनुज को नाबालिग बता पत्नी पर उसे बहलाकर ले जाने का लांछन लगाकर दुत्कार कर भगा दिया। सीओ हसनगंज ने भी कोई कार्रवाई नहीं की। एसपी दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि तहरीर लेने और रिपोर्ट दर्ज करने में हुई लापरवाही की जांच कराई जाएगी।

------

पांच दिन पहले मौत की पुष्टि, पैनल से हुआ पोस्टमार्टम

- रविवार को डा. फैसल जुबेर, डा. मो जुबैर और फारेंसिक एक्सपर्ट डा. आशुतोष वाष्णेय के पैनल व वीडियोग्राफी के बीच दोनों शवों का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार दोनों की मौत पांच दिन पहले हुई। शरीर पर कोई चोट का निशान नहीं मिला। विसरा सुरक्षित किया गया है।

---------

शुक्लागंज पक्का घाट पर अगल-बगल जली चिताएं

- एक साथ चिपके मिले युवक व महिला के शवों को स्वजन शुक्लागंज पक्काघाट ले गए। पुलिस की मौजूदगी में अगल-बगल दोनों शवों का अंतिम संस्कार किया गया। दोनों के स्वजन ने एक दूसरे से बात नहीं की। वहीं ग्रामीण दोनों के शवों में शामिल होने पहुंचे। गांव में सन्नाटा पसरा रहा। अनुज के परिवार की महिलाएं उसकी मौत पर बिलखती रहीं, वहीं मृतका शांतिदेवी के घर पर ताला लटका रहा।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept