This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

वैक्सीन की डोज जरूरी, कोरोना से लड़ने में कारगर

जिले में कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला नहीं रूक रहा है। वहीं हर दिन मौत का भी बढ़ रहा है। दूसरी लहर से बचने के लिए वैक्सीन की डोज जरूरी है यह कोरोना से लड़ने में कारगर साबित हो रही है। अब तक जिले में दूसरी लहर में 120 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

JagranSun, 09 May 2021 04:55 PM (IST)
वैक्सीन की डोज जरूरी, कोरोना से लड़ने में कारगर

जागरण संवाददाता, सोनभद्र : जिले में कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला नहीं रूक रहा है। वहीं हर दिन मौत का भी बढ़ रहा है। दूसरी लहर से बचने के लिए वैक्सीन की डोज जरूरी है, यह कोरोना से लड़ने में कारगर साबित हो रही है। अब तक जिले में दूसरी लहर में 120 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। यह खतरे की घंटी है। हम सबको वैक्सीन की डोज लेनी चाहिए। यह कोरोना से लड़ने में कारगर है। सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 45 प्लस के ऊपर के लोगों को टीका अवश्य लगवाना चाहिए। वैक्सीन को लेकर सोशल साइट पर फैलाई जा रही भ्रांतियों से दूर रहें। वैक्सीन बनने के बाद उसे कई बार चेक किया गया है। उसकी गुणवत्ता भी देखी गई है। वैक्सीन से इम्युनिटी पावर बढ़ती है।

बोले वरिष्ठ जन..

------------

कोरोना अब जानलेवा होता जा रहा है। ऐसे में कोविड नियमों का पालन करते हुए सभी को वैक्सीन की डोज लेनी चाहिए। यह पूर्ण रूप से सुरक्षित है।

-गोविद सिंह, नेत्र परीक्षण अधिकारी।

------------------------

वैक्सीन लगवाने के बाद किसी तरह की दिक्कत नहीं हो रही है। ऐसे में हम सभी को इसकी दोनों डोज लेनी चाहिए।

-राजन चौधरी, महुली, सेवानिवृत्त जिला जज।

------------------------ बोले चिकित्सक..

कोरोना से बचाव के लिए टीका लगवाना सबसे जरूरी है। पहले व दूसरे डोज में छह से आठ सप्ताह का अंतर रखें। दूसरी डोज लगने के करीब 15 दिन बाद इम्युनिटी बढ़ती है। कोरोना काल में प्रदूषण एवं ध्रूमपान से बचें। गुनगुना पानी का अधिक सेवन करें और मौसमी फल भी खाएं।

- डा. एसके चतुर्वेदी, जिला अस्पताल।

-------------------

कोरोना महामारी से बचने के लिए प्रतिरोधक काढ़ा और आयुर्वेदिक दवाएं अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसमें अगस्त हरीतिका, आयुष- 64 एवं संशमनी बटी का प्रयोग अत्यंत ही लाभप्रद है।

-डा. वीरेंद्र कुमार सिंह, क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी।

---------------------

कोविड की इस महामारी में सबको सावधान रहना जरूरी है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए नियमित रूप से खट्टे फलों का सेवन करें, पूरी नींद लें, गर्म पानी का सेवन व योग एवं व्यायाम नियमित करें।

-डा. निशात बानो, आयुष चिकित्साधिकारी, न्यू प्राथमिक स्वास्थ केंद्र गुरमुरा।

---------------

बहुत जरूरी हो तभी बाहर निकलें। जब भी बाहर निकले तो मास्क लगाकर। भीड़ वाले जगहों पर कदापि न जाएं। बाहर से घर जब भी आए तो साबुन से अपने हाथों को अच्छे से धोवें। ताजा व गर्म भोजन का सेवन करें। खांसी-बुखार होने पर चिकित्सक से सलाह लेकर ही दवा खाए।

-डा. सुनील कुमार, प्रभारी चिकित्साधिकारी, न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, गुरमुरा।

Edited By Jagran

सोनभद्र में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!