सर्द हवाओं से गलन बरकरार, ठिठुरे लोग

जागरण संवाददाता सोनभद्र जिले में शीतलहर का कहर लगातार जारी है। सर्द हवाओं और तापमान

JagranPublish: Wed, 19 Jan 2022 06:45 PM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 08:21 PM (IST)
सर्द हवाओं से गलन बरकरार, ठिठुरे लोग

जागरण संवाददाता, सोनभद्र : जिले में शीतलहर का कहर लगातार जारी है। सर्द हवाओं और तापमान में मामूली उतार-चढ़ाव के कारण गलन लगातार जारी है। गलन के कारण सुबह और शाम ही नहीं दिन में भी लोग गर्म कपड़ों में लदे नजर आ रहे हैं। दिन में धूप तो निकल रही है, लेकिन सर्द हवाओं के कारण वह भी नाकाफी साबित हो रही है।

सोनांचल में ठंड का प्रकोप कम होता नजर नहीं आ रहा है। बुधवार को भी सर्द हवाओं के कारण गलन काफी रही। मौसम विभाग के राजन सिंह के अनुसार बुधवार को न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री और अधिकतम तापमान 17.0 डिग्री दर्ज किया गया। हालांकि मंगलवार को न्यूनतम तापमान 4.5 अधिकतम 16.2 डिग्री रहा। तापमान में मामूली वृद्धि के बाद भी लोगों को गलन से राहत मिलती नहीं दिख रही है। बुधवार की सुबह घना कोहरा छाया रहा। कोहरे के साथ ही सर्द हवाएं भी चल रही थी, जिससे गलन काफी रही। सुबह के समय लोग गलन के कारण घरों में दुबके रहे। सुबह नौ बजे के बाद हल्की धूप निकली तो लोग अपने घरों के बाहर धूप लेते दिखे। हालांकि धूप के साथ ही सर्द हवाएं भी चल रही थी, जिससे गलन से राहत नहीं मिल पा रही थी। गलन के कारण दिन में भी लोग गर्म कपड़ों में लदे नजर आए। शाम होते ही सर्द हवाओं के कारण गलन बढ़ गई और लोग घरों में कैद हो गए। अंधेरा होने के बाद बाजारों में सन्नाटा पसर गया। राब‌र्ट्सगंज नगर के बढ़ौली चौक, धर्मशाला चौक, मेन चौक आदि स्थानों पर राहगीरों और रिक्शा चालकों को अलाव का सहारा लेते देखा गया। इनसेट..

सुबह-शाम की ठंड से भाठ क्षेत्र के लोग परेशान

जागरण संवाददाता, अनपरा (सोनभद्र): मौसम में आए दिन बदलाव होने से ऊर्जांचल के जन-जीवन पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। कभी बेमौमस बारिश तो कभी सर्द हवा से भाठ क्षेत्र के लोगों की इन दिनों कंपकपी छूट रही है। सुबह-शाम कड़ाके की ठंड से लोग कांप उठे हैं। भाठ क्षेत्र के कई लोग सर्दी-जुकाम से ग्रसित हैं। ठंड से बचने के लिए महिलाएं विवश होकर सूखी लकड़ी चुनना शुरू कर दी हैं। रंजू देवी खरवार, मानमती खरवार, बसमतिया देवी आदि ने बताया कि सुबह-शाम बहुत तेज ठंडी लगती है, इसलिए सूखी लकड़ी चुन कर हम लोग सुबह-शाम जलाते हैं। मौसम में कभी बादल तो कभी हल्की धूप, कभी बारिश तरह-तरह का बदलाव हो रहा है, लेकिन भाठ क्षेत्र के लोग सुब-शाम आग जलाकर तापने से थोड़ी राहत जरूर महसूस कर रहे हैं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept