चुनाव 9) भाजपा छोड़कर सपा में आए पूर्व मंत्री का सपाइयों ने फूंका पुतला

सीतापुर कुछ दिन पहले ही साइकिल पर सवार हुए पूर्व मंत्री रामहेत भारती का सोमवार दोपह

JagranPublish: Mon, 24 Jan 2022 09:53 PM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 09:53 PM (IST)
चुनाव 9) भाजपा छोड़कर सपा में आए पूर्व मंत्री का सपाइयों ने फूंका पुतला

सीतापुर : कुछ दिन पहले ही 'साइकिल' पर सवार हुए पूर्व मंत्री रामहेत भारती का सोमवार दोपहर पुतला सपा जिला कार्यालय के सामने फूंका गया। पुतला दहन करने वाले समाजवादी पार्टी व अखिलेश यादव जिदाबाद के नारे भी लगा रहे थे। 'प्रदर्शनकारी' अखिलेश से बैर नहीं, रामहेत की खैर नहीं' के नारे लगा रहे थे। पुतला दहन करने वालों में शामिल विनय कुमार ने बताया, पूर्व मंत्री रामहेत भारती से पार्टी के कार्यकर्ता खुश नहीं हैं। पूर्व मंत्री रामहेत भारती का मोबाइल बंद होने से उनका पक्ष नहीं जाना जा सका।

-----------

वरिष्ठ करते रहे अनदेखी

सपा कार्यालय पर प्रदर्शन के दौरान काफी संख्या में कार्यकर्ता रामहेत भारती के विरोध में नारेबाजी कर रहे थे। वहीं, पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता पुतला दहन की अनदेखी करते दिखे। बोले जिलाध्यक्ष, संज्ञान में नहीं मामला

सपा जिलाध्यक्ष छत्रपाल यादव का कहना है कि रामहेत भारती का पुतला फूंका गया, यह मामला उनके संज्ञान में नहीं है। पुतला फूंकने वालों के विरुद्ध वह अनुशासनात्मक कार्रवाई करेंगे। रामहेत भारती का पुतला फूंकना बड़ा घृणित कार्य हुआ है। जो करे क्षेत्र का समुचित विकास उसी की बने सरकार

सीतापुर: चुनाव की तारीख ज्यों ज्यों नजदीक आती जा रही है। वैसे वैसे केवल राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों की ही नहीं बल्कि मतदाताओं की उत्सुकता बढ़ती ही जा रही है। चुनाव में हार जीत पर पार्टी पदाधिकारियों से ज्यादा मतदाता सोच विचार में लगे हुए हैं। मतदाताओं ने वैसे तो अपना रुख अभी साफ नहीं किया है कि वह किस ओर जा रहे हैं लेकिन उनकी बातों से साफ झलक जाता है कि वे राजनीतिक दलों से क्या चाह रहे हैं।

केसरुआ में राजेश सिंह के दरवाजे पर बैठे ग्रामीण चुनावी चर्चा में मशगूल थे। रामनाथ का कहना है सरकार चाहे जिसकी बने बस गांव के विकास के लिए काम करने वाले नेता हों तो ज्यादा बढि़या रहेगा। राम लाल ने गांवों में होने वाले विकास कार्यों को गिना डाला उसके अलावा किसानों की समस्याओं के बारे में भी खुलकर बात की। विनोद कटियार ने युवाओं को रोजगार मुहैय्या कराने वाली सरकार को अच्छा बताया। उन्होंने कहा हरबार सभी पार्टियां रोजगार को अपने घोषणापत्र में शामिल तो करती हैं, लेकिन इसओर कोई ठोस काम नहीं करता है। विशुन कुमार अवस्थी ने कहा किसानों को फसलों का उचित मूल्य मिलना चाहिए। किसानों को खाद, बीज आसानी से मिले यही हम किसानों की इच्छा है। राजेश सिंह के मुताबिक सरकार ऐसी होनी चाहिए जो विकास कार्यों को तरजीह दें। डाक्टर कमलेश व प्रताप भी शिक्षा, स्वास्थ्य व विकास को करने वाले प्रतिनिधि को चुनने की बात कह रहे हैं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept