This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अंत्येष्टि स्थल की सीढि़यां पानी में बहीं

विकास खंड बढ़नी के चरगहवा नदी पर बने अंत्येष्टि स्थल की सीढि़यां पानी में बह गई हैं। जिससे लोगों को शवों का अंतिम संस्कार करने में काफी कठिनाई होती है। मानक के खिलाफ निर्माण कार्य कराने पर कार्यदायी संस्था के ऊपर कार्रवाई की मांग की गई है।

JagranTue, 13 Jul 2021 10:41 PM (IST)
अंत्येष्टि स्थल की सीढि़यां पानी में बहीं

सिद्धार्थनगर : विकास खंड बढ़नी के चरगहवा नदी पर बने अंत्येष्टि स्थल की सीढि़यां पानी में बह गई हैं। जिससे लोगों को शवों का अंतिम संस्कार करने में काफी कठिनाई होती है। मानक के खिलाफ निर्माण कार्य कराने पर कार्यदायी संस्था के ऊपर कार्रवाई की मांग की गई है।

चारगहवा नदी पर पिछले साल 28 लाख रुपये की लागत से अंत्योष्टि स्थल का निर्माण किया गया था। निर्माण के समय ही मानक के विपरीत कार्य किए जाने पर लोगों ने विरोध किया था। लेकिन जिम्मेदारों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किया गया। पिलर में सरिया व बालू के मानक में घोर अनियमितता बरती गई। जिससे एक साल में ही सीढ़ी नदी में विलीन हो गई। सवाल है कि मानक के विपरीत कार्य किया जा रहा था तो शिकायत के बावजूद अधिकारियो द्वारा कार्रवाई क्यों नहीं की गई। शासन की मंशा थी कि अंत्योष्टि स्थाल बनने से ग्रामीण क्षेत्र में खेत, खलिहान में जलाए जाने वाले शवों से फैलने वाले प्रदूषण से मुक्ति मिल सकेगी, लेकिन जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते ऐसा नहीं हो पा रहा है।

संचारी रोग नियंत्रण के तहत गांव का निरीक्षण सिद्धार्थनगर : संचारी रोग नियंत्रण अभियान एवं दस्तक अभियान के अंतर्गत ग्राम स्तर पर साफ सफाई, एंटी लार्वा छिड़काव, नाली सफाई, झाड़ियों की सफाई, दिमागी बुखार की स्थित आदि का निरीक्षण यूनिसेफ के ब्लाक समन्वयक शोएब अख्तर ने तुरकौलिया, बेवा मुस्तफा गांव में मंगलवार को किया। बीसीपीएम वीरेंद्र कुमार यादव ने वासाचक ग्राम में तथा एआरओ आज्ञाराम ने कंचनपुर गांव में संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक कार्यक्रम के अंतर्गत आशाओं के कार्य का आकलन किया। कोविड टीकाकरण, एवं दिमागी बुखार से बचाव के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण सबसे जरूरी है। संक्रमण से बचाव का टीकाकरण ही एक मात्र विकल्प है। इसलिए जरूरी है कि जल्द से जल्द सभी टीकाकरण करवाएं। निरीक्षण के दौरान जो भी गांवों में साफ -सफाई में कमियां मिली उसे ग्राम प्रधानों को अवगत कराते हुए पूरे गांवों में साफ - सफाई कराने का निर्देश दिया गया। प्रधान बादशाह, इमरान, मो. मुस्तफा आदि मौजूद रहे।

1968 की हुई जांच सभी की रिपोर्ट निगेटिव

सिद्धार्थनगर : कोरोना संक्रमण घटने लगा है। मंगलवार को 1968 लोगों की जांच रिपोर्ट आई है। सभी निगेटिव मिले। एक्टिव केस 53 हैं। अभी तक 9376 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। कोरोना संक्रमण से 99 लोगों की मौत हुई है। 1403 की रिपोर्ट आने का इंतजार है। सीएमओ डा. संदीप चौधरी ने बताया कि कोई भी संक्रमित नहीं पाया गया है।

Edited By Jagran

सिद्धार्थ नगर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!