बिना जुलूस व डीजे के मना बारावफात का जश्न

रवीउल अव्वल की बारहवीं तारीख को नबी के पैदाइश और वफात का जश्न बिना जुलूस व डीजे के संपन्न हुआ। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नबी की शान में कसीदे पढे़ और एक दूसरे से गले मिलकर बधाई दी। कोविड -19 के कारण शासन के निर्देशानुसार प्रशासन ने जुलूस व डीजे की अनुमति नहीं दी।

JagranPublish: Fri, 30 Oct 2020 10:21 PM (IST)Updated: Fri, 30 Oct 2020 10:21 PM (IST)
बिना जुलूस व डीजे के मना बारावफात का जश्न

सिद्धार्थनगर : रवीउल अव्वल की बारहवीं तारीख को नबी के पैदाइश और वफात का जश्न बिना जुलूस व डीजे के संपन्न हुआ। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नबी की शान में कसीदे पढे़, और एक दूसरे से गले मिलकर बधाई दी। कोविड -19 के कारण शासन के निर्देशानुसार प्रशासन ने जुलूस व डीजे की अनुमति नहीं दी। शारीरिक दूरी को लेकर झुड में निकले लोग काफी संयम बरत रहे थे।

बांसी कस्बे में नगर व आस पास गांवों से लोगों को झुंड डाक बंगला तिराहा स्थित अंजुमन इस्लामिया मदरसा पर धीरे धीरे आकर एकत्रित हुआ। झांकियों व झंडे के साथ यह झुंड यहां से आब्दी चौराहा से अकबर नगर होकर राजेन्द्र नगर पर पहुंचा लोगों को बधाई देते समाप्त हुआ। कार्यक्रम में नपा अध्यक्ष मो इद्रीस पटवारी, मौलाना निजामुद्दीन नूरी, मौलाना अब्दुल हकीम, बसपा नेता समीम अहमद, सफीकुर्रहमान, कमर निजामी, शकील खान, आदि शामिल रहे। प्रभारी सीओ अजय कुमार श्रीवास्तव, कोतवाल शैलेंद्र कुमार सिंह के साथ भारी पुलिस बल मौजूद रहा। बेलौहा बाजार, मरवटिया बाजार, पचमोहनी, देवरी, देवरिया, तिलौली, महोखवा, सिहावल, बरांव नानकार, असंगवा, पठनपुरवा बलुआ आदि जगहों पर भी सादगी के साथ इस त्योहार को मनाया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम