This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

खतरा साबित हो सकते हैं सूखे पेड़

इटवा-डुमरियागंज मार्ग पर करहिया पुल के पास सूखे पेड़ कभी भी खतरे की वजह बन सकते हैं। तेज हवा चलती है तो टहनियां टूटकर गिर रही हैं इसकी चपेट में कोई आता है तो उसे दुर्घटना का शिकार हो जाना पड़ेगा। नागरिक बार-बार आवाज उठाते हैं लेकिन वन विभाग के लोग अनजान हैं।

JagranSat, 17 Apr 2021 11:26 PM (IST)
खतरा साबित हो सकते हैं सूखे पेड़

सिद्धार्थनगर : इटवा-डुमरियागंज मार्ग पर करहिया पुल के पास सूखे पेड़ कभी भी खतरे की वजह बन सकते हैं। तेज हवा चलती है तो टहनियां टूटकर गिर रही हैं, इसकी चपेट में कोई आता है तो उसे दुर्घटना का शिकार हो जाना पड़ेगा। नागरिक बार-बार आवाज उठाते हैं, लेकिन वन विभाग के लोग अनजान हैं। राम कुमार, जितेन्द्र, परमेश्वर, इंद्रजीत, शोहरत अली आदि ने प्रशासन से इस दिशा में उचित कदम उठाने की मांग की है।

टेंपो चालकों की मनमानी

चौराहे से विभिन्न मार्गों पर टेंपो का संचालन होता है। इसमें अधिकांश गाड़ियां बिना परमिट के चलती हैं। चालक भी मनमानी करते हैं। ज्यादा किराया वसूला जाता है, सवारी भी ठूस-ठूस कर भरी जाती है। अरविद कुमार, अमन, प्रेम सागर, रव्वाब आदि ने आरटीओ विभाग व पुलिस प्रशासन से इस दिशा में जांच कर उचित कार्रवाई करने की मांग की।

सड़े-गले फलों की होती बिक्री

विभिन्न चौराहों पर सड़े गले फलों की बिक्री होती है। खाद्य सुरक्षा के जिम्मेदार इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है। स्वास्थ्य विभाग की मानें तो ऐसे फलों का सेवन नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। प्रेम कुमार, रमेश चंद्र, सोनू, महेश कुमार, शमीम अहमद, परवेज आदि ने खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों से जांच अभियान के माध्यम से इसकी बिक्री पर अंकुश लगाने की मांग की है।

खुले में बेची जा रही मीट-मछली सड़क किनारे खुले में मीट-मछली की बिक्री हो रही है। दुकानदार अवशेष को वहीं पर छोड़ देते हैं। दुर्गंध ऐसी कि आसपास के लोगों का सुकून की सांस लेना दूभर है। बाजार में मीट-मछली के लिए जगह चिह्नित है, इसके बाद भी कुछ विक्रेता मनमानी करते हैं। मो. आरिफ, सुनील कुमार, अमजद, साजिद, राकेश, राम कुमार आदि ने नगर पंचायत प्रशासन से ठोस कदम उठाने की मांग की है।

सीएमएस स्थानांतरित

शासन ने प्रशासनिक आधार पर संयुक्त जिला अस्पताल के सीएमएस डा. आरके कटियार का स्थानांतरण गैर जनपद में कर दिया है। कटियार को वरिष्ठ परामर्शदाता आर्थोपेडिक के पद पर संयुक्त जिला अस्पताल चित्रकूट भेजा गया है। इसकी पुष्टि सीएमओ डा. आइवी विश्वकर्मा ने शनिवार को की। उन्होंने बताया कि सीएमएस के पद पर अभी किसी की तैनाती नहीं हुई है।

Edited By Jagran

सिद्धार्थ नगर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!