योजनाओं की मदद से समाज को आगे बढ़ाना प्राथमिकता : मिथलेश

राज्यसभा सदस्य का प्रत्याशी बनाकर भारतीय जनता पार्टी ने मिथलेश कुमार को बड़ी जिम्मेदारी दी है।

JagranPublish: Tue, 31 May 2022 11:44 PM (IST)Updated: Tue, 31 May 2022 11:44 PM (IST)
योजनाओं की मदद से समाज को आगे बढ़ाना प्राथमिकता : मिथलेश

योजनाओं की मदद से समाज को आगे बढ़ाना प्राथमिकता : मिथलेश

जेएनएन, शाहजहांपुर : राज्यसभा सदस्य का प्रत्याशी बनाकर भारतीय जनता पार्टी ने मिथलेश कुमार को बड़ी जिम्मेदारी दी है। इसका अहसास उन्हें भी है। मंगलवार को नामांकन के बाद दैनिक जागरण से फोन पर हुई बातचीत में मिथलेश ने बताया कि उन्हें सोमवार रात पौने दस बजे पार्टी कार्यालय पर बुलाया गया। वहां जाने पर बताया गया कि राज्यसभा का प्रत्याशी बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिले से लेकर प्रदेश व केंद्रीय नेतृत्व ने उन पर जो भरोसा जताया है उसे कायम रखने का पूरा प्रयास करेंगे। मिथलेश ने बताया कि उन्होंने अनुसूचित जाति जनजाति आयोग के उपाध्यक्ष के रूप में उन्होंने पूरे प्रदेश का भ्रमण किया। कई जगह अब भी समाज के लोग काफी पीछे हैं। केंद्र व प्रदेश सरकार अनुसूचित जाति जनजाति व गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों को नंबर एक पर लाने के लिए योजनाएं चला रही है। इन योजनाओं की मदद से वह भी समाज के लोगों के उत्थान के लिए काम करेंगे। राज्यसभा का टिकट मिलने पर मिथलेश ने कहा कि वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना का जो आशीर्वाद मिला उसका शब्दों में वर्णन नहीं कर सकते। लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद, सहकारिता मंत्री जेपीएस राठौर का विशेष सहयोग रहा। जिले के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की भी खास भूमिका रही। वह भी जिले की जनता को अपनी प्राथमिकता में रखेंगे। पंजाब, बिहार, हरियाणा, मध्य प्रदेश में अपने समाज के लोगों के बीच जाकर काम करेंगे। भाजपा की रणनीति ने विपक्षियों को भी चौंकाया जिले में क्लीनस्वीप कर चुकी भारतीय जनता पार्टी ने अब राज्यसभा में भी यहां से प्रत्याशी उतारकर विपक्षी दलों को भी चौंका दिया है। मिथलेश कुमार जैसे अनुभवी नेता को उच्च सदन में भेजकर संगठन ने साफ कर दिया है कि वह अपने विपक्षियों के लिए यहां कोई अवसर नहीं छोड़ना चाहती। 2024 में लोकसभा चुनाव हैं। मिथलेश का नाम भी दावेदार के रूप में सामने आ रहा था। दो बार विधानसभा व एक बार लोकसभा चुनाव जीत चुके मिथलेश के राजनीतिक अनुभव का पार्टी लाभ लेना चाहती थी। 2019 में जब उन्हें भाजपा में शामिल किया गया तो टिकट नहीं मिल सका तो उसकी भरपाई पार्टी ने अनुसूचित जाति आयोग का उपाध्यक्ष बनाकर की गई। अब उच्च सदन में भेजने का मतलब है कि लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी अपनी रणनीति तैयार करने लगी है। पुवायां की स्थिति और ज्यादा हुई मजबूत जिले के साथ-साथ प्रदेश की राजनीति में पुवायां की स्थिति और भी ज्यादा मजबूत हो गई है। पार्टी में भी इस विधानसभा क्षेत्र का कद बढ़ा है। इस सुरक्षित विधानसभा सीट पर लगातार दो बार से भाजपा का कब्जा है। चेतराम यहां से विधायक हैं। इसी विधानसभा क्षेत्र के निवासी हरिप्रकाश वर्मा जलालाबाद से भाजपा विधायक हैं। नगर के पूर्व चेयरमैन डा. सुधीर गुप्ता एमएलसी चुने गए हैं। लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद का संबंध भी इसी विधानसभा क्षेत्र के खुटार क्षेत्र से है। पार्टी ने पिछले दिनों यहां के केसी मिश्रा को जिलाध्यक्ष बनाया। इफ्को के वाइस चेयरमैन बलवीर सिंह भी पुवायां के रहने वाले हैं। समर्थकों ने बांटी मिठाई मिथलेश कुमार के गांव अगौना बुजुर्ग में भी उत्साह का माहौल है। उनके सुवह से ही उनके आवास अगौना बुजुर्ग में कार्यकर्ताओं को पहुंचना शुरू हो गया। विधायक चेतराम, मिथलेश कुमार की पत्नी शकुंतला देवी समेत परिवार के अन्य सदस्य सुबह ही लखनऊ रवाना हो गए थे। मिथलेश को राज्यसभा प्रत्याशी बनाने पर देवेंद्र अवस्थी, अवनीश सैनी, महेश शर्मा, नौशाद खां, संजीव मिश्रा, केपी पांडेय, रिजवान खां, सुखविंदर सिंह समेत तमाम समर्थकों ने मिठाई बांटी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept