तिलहर से भाजपा के विधायक रोशनलाल ने छोड़ी भाजपा की सदस्यता, सपा में शामिल होने की अटकलें

विधानसभा चुनाव से पहले जिले की राजनीति में पहला बड़ा फेरबदल हुआ। भारतीय जनता पार्टी से तिलहर के विधायक रोशन लाल वर्मा ने मंगलवार को लखनऊ में पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य का इस्तीफा लेकर राजभवन भी वही गए

JagranPublish: Wed, 12 Jan 2022 12:54 AM (IST)Updated: Wed, 12 Jan 2022 12:54 AM (IST)
तिलहर से भाजपा के विधायक रोशनलाल ने छोड़ी भाजपा की सदस्यता, सपा में शामिल होने की अटकलें

जेएनएन, शाहजहांपुर : विधानसभा चुनाव से पहले जिले की राजनीति में पहला बड़ा फेरबदल हुआ। भारतीय जनता पार्टी से तिलहर के विधायक रोशन लाल वर्मा ने मंगलवार को लखनऊ में पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य का इस्तीफा लेकर राजभवन भी वही गए। उन्होंने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। अब 14 जनवरी को पार्टी कार्यालय पर विधिवत सदस्यता ग्रहण करेंगे।

रोशनलाल वर्मा के कई दिनों से भाजपा छोड़ने की चर्चा थी, लेकिन उन्होंने हर बार इन्हें नकार दिया। पिछले तीन दिन से उनके लखनऊ में होने पर अटकलों ने जोर पकड़ा। वहां सपा के साथ-साथ भाजपा नेता भी उनसे लगातार संपर्क में थे, लेकिन बात नहीं बनी। मंगलवार को उन्होंने कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ भाजपा छोड़ दी। समाजवादी पार्टी के मुख्यालय पर पहुंचे। जहां उन्होंने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। उसके बाद स्वामी प्रसाद मौर्य के मंत्रिपद से दिए गए इस्तीफे को लेकर राजभवन पहुंचे। सिस्टम के खिलाफ रहे मुखर

भाजपा में रहते हुए भी रोशनलाल वर्मा सरकारी तंत्र के खिलाफ मुखर रहे। कोरोना काल में उन्होंने अव्यवस्थाओं को लेकर सवाल उठाए थे। तिलहर मंडी में गेहूं खरीद में धांधली का मुद्दा उठाया। निगोही क्षेत्र में लोगों का उत्पीड़न होने पर एसपी कार्यालय में उनकी एएसपी से नोकझोंक हुई थी। कई अन्य अन्य मुद्दों पर अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर उन्होंने शासन में शिकायत की। 1985 से जीते लगातार 16 चुनाव

रोशनलाल वर्मा 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा में शामिल हुए और लगातार तीसरी जीत हासिल की। इससे पहले उन्होंने 2007 में बसपा से निगोही सीट से पहला विधानसभा चुनाव लड़ा था। उन्हें जीत मिली थी। उसके बाद 2012 में उन्होंने बसपा से ही दूसरा चुनाव जीता। गत चुनाव में उन्होंने पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को हराया था। जो सपा-कांग्रेस गठबंधन से प्रत्याशी थे। रोशनलाल वर्मा ने अपना राजनीतिक सफर 1985 में शुरू किया था। पहली बार निगोही किसान सेवा सहकारी समित के अध्यक्ष बने। लगातार तीन बार इसका चुनाव जीते। ग्राम विकास बैंक की शाखा अध्यक्ष का चुनाव जीता। उप ब्लाक प्रमुख का चुनाव जीते, ब्लाक प्रमुख बने।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम