फसल बीमा कराने वाले 1017 किसानों को मिले 68 लाख

फसल का बीमा करने वाली कंपनी को भेजी गई थी सर्वे रिपोर्ट

JagranPublish: Tue, 30 Nov 2021 11:34 PM (IST)Updated: Tue, 30 Nov 2021 11:34 PM (IST)
फसल बीमा कराने वाले 1017 किसानों को मिले 68 लाख

संतकबीर नगर: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत धान की फसल का बीमा कराने वाले जनपद के 1017 किसानों को 68 लाख आठ हजार एक सौ रुपया भुगतान कर दिया गया है। इस साल 25 गांवों के किसानों की धान की फसल बारिश व बाढ़ के चलते डूबकर बर्बाद हो गई थी। कृषि विभाग के अधिकारियों ने इसकी सर्वे रिपोर्ट बीमा कंपनी को भेजी थी।

उप कृषि निदेशक लोकेंद्र सिंह ने कहा कि यह योजना किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। फसल की बर्बादी पर उन्हें जल्द उचित मुआवजा मिल जा रहा है। जिला कृषि अधिकारी पीसी विश्वकर्मा ने कहा कि यूनिवर्सल सोंपो जनरल इंश्योरेंस बीमा कंपनी के अधिकारी ने यह जानकारी दी है। फसल बर्बादी की पीड़ा झेल रहे किसानों के लिए यह राहत की बात है। जिले के 115 बिक्री केंद्रों पर पहुंची 1314.18 एमटी यूरिया

संतकबीर नगर: जनपद के साधन सहकारी समिति, डीसीएफ, एग्री जंक्शन केंद्र, आइएफएफडीसी सहित 115 बिक्री केंद्रों पर मंगलवार की रात करीब साढ़े सात बजे तक 1314.18 एमटी यूरिया पहुंच गई। वहीं, बुधवार को दोपहर के करीब एक बजे तक 1400 एमटी डीएपी पहुंच जाएगी। प्रति बोरी यूरिया का मूल्य 266.50 रुपये है जबकि डीएपी प्रति बोरी 1200 रुपये में मिलेगी। रसीद न देने और अधिक मूल्य लेने पर कंट्रोल रूम को तुरंत किसान सूचित करें। इस पर तुरंत विक्रेता के खिलाफ कार्रवाई होगी।

जनपद में 6281 एमटी यूरिया का वितरण हो चुका है, वहीं 13133 एमटी यूरिया उपलब्ध है। डीएपी अब तक 5580 एमटी वितरित हो चुकी है, जबकि 6400 एमटी उपलब्ध है। सिगल सुपर फास्फेट 4785 एमटी वितरित हो चुकी है। वहीं, 6210 एमटी उपलब्ध है। इसके अलावा पोटाश 458 एमटी वितरित हो चुका है, जबकि 604 एमटी उपलब्ध है। जिला कृषि अधिकारी पीसी विश्वकर्मा ने कहा कि यदि कोई विक्रेता खाद खरीदने पर प्वाइंट आफ सेल (पीओएस) से निकली रसीद न दें, तय से अधिक मूल्य खाद का ले तो संबंधित किसान जनपद स्तर पर स्थापित कंट्रोल रूम के मोबाइल नंबर 7839882274 पर तुरंत शिकायत करें। इस पर संबंधित विक्रेता के खिलाफ तुरंत सख्त कार्रवाई होगी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept