निर्यात माल का बीमा कराना अति महत्वपूर्ण : डा. राकेश कुमार

ईपीसीएच के महानिदेशक डा. राकेश कुमार ने कहा कि आज के कारोबारी माहौल में यह बहुत महत्वपूर्ण है कि नवीनतम डिजाइन वाले नए उत्पादों को रुझानों और पूर्वानुमानों के अनुसार विकसित किया जाए ताकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धी बने रहें। उन्होंने कहा कि लकड़ी की वैधता के संबंध में आवश्यक अनुपालन एक और पहलू है जिस पर लकड़ी के हस्तशिल्प निर्यातकों द्वारा ध्यान रखा जाना है। उन्होंने कहा कि सभी ने महामारी के साथ अनिश्चितता का समय देखा हैं इसलिए निर्यात माल का बीमा करना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है जिसके लिए उन्होंने मेसर्स एलायंस इंश्योरेंस को पेश किया।

JagranPublish: Mon, 29 Nov 2021 11:09 PM (IST)Updated: Mon, 29 Nov 2021 11:09 PM (IST)
निर्यात माल का बीमा कराना अति महत्वपूर्ण : डा. राकेश कुमार

सहारनपुर, जेएनएन। ईपीसीएच के महानिदेशक डा. राकेश कुमार ने कहा कि आज के कारोबारी माहौल में यह बहुत महत्वपूर्ण है कि नवीनतम डिजाइन वाले नए उत्पादों को रुझानों और पूर्वानुमानों के अनुसार विकसित किया जाए ताकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धी बने रहें। उन्होंने कहा कि लकड़ी की वैधता के संबंध में आवश्यक अनुपालन एक और पहलू है, जिस पर लकड़ी के हस्तशिल्प निर्यातकों द्वारा ध्यान रखा जाना है। उन्होंने कहा कि सभी ने महामारी के साथ अनिश्चितता का समय देखा हैं, इसलिए निर्यात माल का बीमा करना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है, जिसके लिए उन्होंने मेसर्स एलायंस इंश्योरेंस को पेश किया।

ईपीसीएच के महानिदेशक डा. राकेश कुमार सोमवार को अंबाला रोड स्थित एक होटल में निर्यात में बीमा के महत्व पर आयोजित जागरूकता संगोष्ठी में बोल रहे थे। उन्होंने सहारनपुर में क्लस्टर विकास पहल के लिए सहारनपुर वुड कार्विग मेन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन को बधाई दी। ईपीसीएच के अध्यक्ष राजकुमार मल्होत्रा ने कहा कि सहारनपुर देश के महत्वपूर्ण लकड़ी के हस्तशिल्प समूहों में से एक है। जिसका वर्ष 2020-21 के दौरान निर्यात लगभग 1000 करोड़ रहा है। इस क्लस्टर में निर्यात की अपार संभावनाएं हैं। सहारनपुर वुडकार्विंग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के महासचिव ओसाफ गुड्डू और सहारनपुर के शाइनिग हेंडीक्राफ्ट्स को ईपीसीएच की प्रशासन समिति में सहारनपुर क्षेत्र से सहयोजित सदस्य के रूप में चुना गया। सांसद हाजी फजलुर्रहमान ने सहारनपुर से हस्तशिल्प के निर्यात को बढ़ावा देने में निभाई गई भूमिका के लिए ईपीसीएच को धन्यवाद दिया। उन्होंने प्रस्ताव दिया कि क्षेत्र से निर्यात के विकास की दिशा में डा. कुमार के अथक प्रयासों को ध्यान में रखते हुए उनके सम्मान में क्लस्टर द्वार का नाम उनके नाम पर रखा जा सकता है। जिसका समर्थन रामजी सुनेजा ने किया। मैसर्स एलायंस इंश्योरेंस के बिजनेस हेड शिशिर संदीपन ने प्रतिभागियों को निर्यात शिपमेंट बीमा के महत्व के बारे में बताया और निर्यातकों से अपने निर्यात माल की सुरक्षा के लिए बीमा सुविधाओं का लाभ उठाने का आग्रह किया।

कार्यक्रम में नीरज खन्ना, अवधेश अग्रवाल, मो. ओसाफ, इरफान उल हक, रामजी सुनेजा, नजमुल इस्लाम, मोहित चोपड़ा, शिराज अल्थी, आइआइए के चैप्टर चेयरमैन प्रमोद सडाना, रामजी सुनेजा, प्रमोद मिगलानी, परविदर सिंह, राकेश गांधी, सुनील सैनी, मो. अनवार अहमद, विवेक शर्मा आदि रहे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept