मतदान कार्मिक ईवीएम एवं वीवीपैट को अच्छी तरह समझें

रामपुर जिला निर्वाचन अधिकारी रविद्र कुमार मांदड ने कहा कि गलती की गुजाइंश से बचने के लिए मतदान कार्मिक प्रशिक्षण के दौरान ईवीएम एवं वीवीपैट मशीन की जानकारी अच्छी तरह से समझ लें।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 12:24 AM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 12:24 AM (IST)
मतदान कार्मिक ईवीएम एवं वीवीपैट को अच्छी तरह समझें

रामपुर : जिला निर्वाचन अधिकारी रविद्र कुमार मांदड ने कहा कि गलती की गुजाइंश से बचने के लिए मतदान कार्मिक प्रशिक्षण के दौरान ईवीएम एवं वीवीपैट मशीन की जानकारी अच्छी तरह से समझ लें। सभी मतदान अधिकारी कर्मठता के साथ कार्य कर सकुशल और निष्पक्ष मतदान करवाएं । मतदान दिवस में मतदान कर्मी तटस्थ होकर कार्य करेंगे तथा किसी का भी आतिथ्य स्वीकार नहीं करेंगे।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने दयावती मोदी एकेडमी परिसर में पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी प्रथम के प्रशिक्षण के दौरान यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी आचार संहिता प्रभावी होते ही निर्वाचन आयोग के अधीन हो जाते है। हमारा प्रथम दायित्व निष्पक्ष एवं शांति पूर्ण मतदान कराना है और मतदान की गोपनीयता भी बनाए रखना है। चेताया कि निर्वाचन कार्यों में त्रुटि पर माफी नहीं होती और त्वरित प्रभावी कार्यवाही होती है इसलिए सभी मतदान कार्मिक भली-भांति प्रशिक्षण लें ताकि मतदान प्रक्रिया के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न न हो और आयोग के दिशा निर्देशों का अनुपालन हो।

उन्होंने कहा कि पार्टी रवाना होने से पहले कार्मिक को दी जा रही निर्वाचन से संबंधित सामाग्री को भली-भांति चेक किया जाए। इससे कार्मिकों को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। बूथों पर प्रकाश, शौचालय, पेयजल आदि की सुविधा भी उपलब्ध रहेगी। मतदान कर्मियों की समस्याओं के निराकरण के लिए कंट्रोल रूम संचालित है। आने वाली समस्याओं का निराकरण किया जाएगा।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने उपस्थित मतदान कार्मिकों से कहा कि मतदान प्रक्रिया के दौरान वे अपना सकारात्मक सहयोग प्रदान करेंगे तथा कहा कि प्रशिक्षण के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या आ रही है तो वह पुन: समझ लें।

---------------------------

पहले दिन यह सिखाया गया

जासं, रामपुर : दयावती मोदी एकेडमी में मास्टर ट्रेनरों ने मतदान कार्मिकों को विभिन्न प्रपत्र भरने, ईवीएम को आन-आफ करने व सील करने के साथ ही वीवीपैट को संयोजित करने, खोलने और सील करने की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी गई। दोनों पालियों में से प्रथम पाली में 17 पीठासीन अधिकारी और 11 मतदान अधिकारी प्रथम ़गैर हाजिर रहे। दूसरी पाली में 19 पीठासीन और 18 मतदान अधिकारी प्रथम गैर हाजिर रहे।

मुख्य विकास अधिकारी ग•ाल भारद्वाज ने कहा कि जो कार्मिक गैर हाजिर रहे हैं। वे 24 जनवरी को उपस्थित होकर अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण प्राप्त कर लें।

यदि निर्धारित दिवस में गैर हाजिर कार्मिक द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त नही किया गया तो उनके विरुद्ध लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कराया जाएगा।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept