प्रेम-प्रसंग में बाधक बनने पर की गई रामकुमार की हत्या

पीलीभीतजेएनएन गजरौला थाना क्षेत्र के गांव महुआ स्थित गन्ने के खेत में नौ जनवरी को शव बरामद होने के मामले में महिला सहित तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर पुलिस ने राजफाश होने का दावा किया है। पुलिस के मुताबिक प्रेम-प्रसंग में बाधक बनने पर पत्नी ने प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिलकर पत्नी की हत्या करने की वारदात को अंजाम दिया था। हत्या में प्रयुक्त मफलर भी पुलिस ने बरामद कर लिया है।

JagranPublish: Wed, 12 Jan 2022 11:08 PM (IST)Updated: Wed, 12 Jan 2022 11:08 PM (IST)
प्रेम-प्रसंग में बाधक बनने पर की गई रामकुमार की हत्या

पीलीभीत,जेएनएन : गजरौला थाना क्षेत्र के गांव महुआ स्थित गन्ने के खेत में नौ जनवरी को शव बरामद होने के मामले में महिला सहित तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर पुलिस ने राजफाश होने का दावा किया है। पुलिस के मुताबिक प्रेम-प्रसंग में बाधक बनने पर पत्नी ने प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिलकर पत्नी की हत्या करने की वारदात को अंजाम दिया था। हत्या में प्रयुक्त मफलर भी पुलिस ने बरामद कर लिया है।

बुधवार की दोपहर पुलिस लाइन सभागार में अपर पुलिस अधीक्षक डा. पवित्र मोहन त्रिपाठी ने प्रेस कान्फ्रेंस में बताया कि गजरौला थाना क्षेत्र के ग्राम महुआ में 9 जनवरी की सुबह 10 बजे गन्ने के खेत में सुनगढ़ी थाना क्षेत्र के राजीव कालोनी निवासी 45 वर्षीय राम कुमार का शव मिला था। मृतक के भाई की तहरीर पर थाना गजरौला में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। शव मिलने के बाद मृतक की पत्नी और पड़ोस में रहने वाला एक युवक भी घर से फरार हो गए थे। जिस पर पुलिस को मृतक की पत्नी और उक्त युवक पर हत्या करने का शक गहराया। पुलिस ने मृतक की पत्नी बिटरानी और हर प्रसाद उर्फ हजारीलाल पुत्र श्यामलाल निवासी राजीव कालोनी को हिरासत में लिया। पूछताछ के दौरान दोनों आरोपितों ने राम कुमार की हत्या कर करने का जुर्म कबूल किया। आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस ने वीरेंद्र पुत्र भगवानदास को भी हिरासत में लिया। तीनों आरोपितों ने मिलकर ही इस हत्याकांड को अंजाम दिया था। आरोपितों ने पुलिस को बताया कि हर प्रसाद की मृतक रामकुमार से दोस्ती थी। दोस्ती के चलते उसका घर पर आना जाना था। इस दौरान राम कुमार की पत्नी बिटरानी से उसका प्रेम प्रसंग हो गया। एक दिन मृतक रामकुमार ने हरप्रसाद और बिटरानी को आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। रामकुमार ने पत्नी बिटरानी की पिटाई कर दी थी। जिसके बाद बिटरानी और हरप्रसाद ने राम कुमार को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। जिसके तहत सात जनवरी को अपराह्न तीन बजे हरप्रसाद, रामकुमार को घर से बुलाकर ले गया। रास्ते में दोनों ने शराब पी। इसके बाद हरप्रसाद,बिटरानी और वीरेंद्र मिलकर रामकुमार को ग्राम महुआ में गन्ने के खेत में ले गए और हर प्रसाद ने रामकुमार को धक्का देकर नीचे जमीन पर गिरा दिया। इसके बाद उसकी पत्नी बिटरानी ने अपने पति राम कुमार के पैर पकड़े और वीरेंद्र ने दोनों हाथ पकड़े। जबकि हर प्रसाद ने अपने मफलर से रामकुमार का गला दबा दिया। जिससे दम घुटने से रामकुमार की मौत हो गई। शव को खेत में फेंककर तीनों आरोपित वापस आ गए। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। वहां से तीनों आरोपितों को जेल भेज दिया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम