सड़कों पर बेसहारा पशु राहगीरों की बढ़ाते मुश्किलें

बेसहारा गोवंशीय पशुओं का संरक्षण शासन की प्राथमिकताओं में शामिल है। इसीलिए पिछले वर्षों में जिले के विभिन्न स्थानों पर गोशाला व गोवंशीय पशु आश्रय केंद्र बनवाए गए। तमाम पशुओं को वहां रखा गया।

JagranPublish: Sun, 28 Nov 2021 12:25 AM (IST)Updated: Sun, 28 Nov 2021 12:25 AM (IST)
सड़कों पर बेसहारा पशु राहगीरों की बढ़ाते मुश्किलें

जेएनएन, पीलीभीत : बेसहारा गोवंशीय पशुओं का संरक्षण शासन की प्राथमिकताओं में शामिल है। इसीलिए पिछले वर्षों में जिले के विभिन्न स्थानों पर गोशाला व गोवंशीय पशु आश्रय केंद्र बनवाए गए। तमाम पशुओं को वहां रखा गया। चारा और पानी की व्यवस्था कराई गई लेकिन अभी भी सैकड़ों की संख्या में ये पशु नगरीय क्षेत्रों में सड़कों पर विचरण करते रहते हैं। अक्सर रात के समय इन पशुओं से वाहन टकराने से दुर्घटनाएं हो रही हैं लेकिन इसके बावजूद पशुपालन विभाग के अधिकारी उदासीन बने हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलों को बेसहारा गोवंशीय पशुओं को ठंड से बचाने और उनके लिए चारा की व्यवस्था कराने के निर्देश जारी किए हैं। इसके बाद भी यहां अभी पशु पालन विभाग ने कोई कदम नहीं उठाया है। पिछले साल जब बेसहारा पशुओं को पकड़-पकड़कर गोशाला में भिजवाने का अभियान शुरू हुआ था, तब सड़कों से ऐसे पशु गायब हो गए थे लेकिन इस साल फिर से सड़कों पर इनकी संख्या बढ़ने लगी है। कई बार को भीड़भाड़ वाले बाजार में ये पशु घुस जाते हैं, जिससे लोगों में अफरातफरी का माहौल हो जाता है। शहर में स्टेशन रोड पर छतरी चौराहा से लेकर लक्ष्मी टाकीज तक, स्टेडियम रोड पर गौहनिया चौराहा से लेकर सुनगढ़ी थाना चौराहा मोड़ तक, टनकपुर रोड पर उपाधि कालेज चौराहा से लेकर नकटादाना चौराहा, चौक बाजार, नई बस्ती चौराहा के साथ ही बरेली रोड पर ललौरीखेड़ा में ब्लाक कार्यालय के सामने पशुओं के झुंड घूमते देखे जा सकते हैं। पिछले वर्षों में रात के समय इन पशुओं से टकराकर कई बाइक सवार घायल हो चुके हैं। पिछले दिनों पूरनपुर क्षेत्र में पशु से टकराकर गंभीर रूप से घायल हुए बाइक सवार की मौत हो गई थी। यातायात में बाधक बनने वाले इन बेसहारा गोवंशीय पशुओं को आश्रय गृहों में भिजवाने की व्यवस्था फिर भी नहीं की जा रही है। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी अवकाश पर चल रहे हैं। उनका कार्यभार सदर के पशु चिकित्साधिकारी डा. लक्ष्मी प्रसाद पर है। उनसे मोबाइल पर संपर्क करने का काफी प्रयास किया गया लेकिन उन्होंने काल रिसीव नहीं की। इनसेट

शहर में सड़कों पर गोवंशीय पशुओं की समस्या फिर बढ़ने लगी है। इसकी शिकायतें मिल रही है। ऐसे में मुख्य पशु चिकित्साधिकारी की मदद से इन पशुओं को शीघ्र ही पकड़वाकर गोशाला में भिजवाने की व्यवस्था कराई जाएगी।

विमला जायसवाल, अध्यक्ष, नगर पालिका परिषद

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept