लगातार 36 घंटे हुई बरसात से सड़कों व बाजारों में पसरा सन्नाटा

लगातार 36 घंटे तक हुई बेमौसम बरसात से सड़कों व बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। दिन के तापमान में गिरावट से ठिठुरन बढ़ गई जिससे लोगों का जीना मुहाल हो गया। ठंड का प्रकोप बढ़ गया। पूरे दिन लोग गर्म व ऊनी कपड़ों में लिपटकर घरों में दुबकने को मजबूर रहे। बरसात से सरसों व सब्जियों वाली फसलों को नुकसान की आशंका बढ़ गई। वहीं भोपा क्षेत्र के फिरोजपुर गांव में किसान के मकान की छत गिर गई।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 10:57 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 10:57 PM (IST)
लगातार 36 घंटे हुई बरसात से सड़कों व बाजारों में पसरा सन्नाटा

मुजफ्परनगर, जेएनएन। लगातार 36 घंटे तक हुई बेमौसम बरसात से सड़कों व बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। दिन के तापमान में गिरावट से ठिठुरन बढ़ गई, जिससे लोगों का जीना मुहाल हो गया। ठंड का प्रकोप बढ़ गया। पूरे दिन लोग गर्म व ऊनी कपड़ों में लिपटकर घरों में दुबकने को मजबूर रहे। बरसात से सरसों व सब्जियों वाली फसलों को नुकसान की आशंका बढ़ गई। वहीं भोपा क्षेत्र के फिरोजपुर गांव में किसान के मकान की छत गिर गई।

शनिवार तड़के से शुरू हुई रिमझिम बारिश रविवार की अपराह्न तीन बजे तक रुक-रुककर होती रही। बारिश कम हुई तो फुहारें पड़ती रहीं। बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। दो दिन की बारिश ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया। बाजार बेरौनक हो गए। सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। कच्चे मार्गो पर कीचड़ हो गया। ईधन गीला होने से कोल्हू क्रेशर बंद हो गए और गुड़ उत्पादन कार्य भी रुक गया। गन्ना छिलाई कार्य बंद हो गया। गन्ना क्रय केंद्रों पर कीचड़ होने से पहले से ढेर लगे गन्ना का उठान नहीं हो पा रहा, जिससे शुगर मिलों में नो केन की स्थिति पैदा हो गई। बारिश में कई स्थानों पर सरसों की फसल जमीन पर लेट गई जिससे इसमें नुकसान की आशंका बढ़ गई। कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को सलाह दी है कि यदि सब्जियों वाली फसलों में पानी भर गया है तो वह खेत से पानी निकाल दें। रविवार को अधिकतम तापमान 13.9 व न्यूनतम तापमान 6.0 डिग्री सेल्सियस रहा। बारिश तोड़ रही रिकार्ड

जनवरी माह की बारिश रिकार्ड तोड़ रही है। वर्ष 1983 में 87 मिमी. बारिश हुई, जबकि इस वर्ष जनवरी माह में अब तक 103.8 मिमी. बारिश हो चुकी है। रविवार को 15.6 मिमी. बारिश रिकार्ड की गई। बारिश के साथ ओलावृष्टि भी

मोरना : क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के साथ कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी हुई, जिससे सरसों व सब्जियों वाली फसलों को नुकसान पहुंचा। गन्ना छिलाई कार्य बंद होने से किसानों के सामने चारे की समस्या पैदा हो गई।

वहीं फिरोजपुर में तिरथपाल के मकान की छत गिर गई। लाखों रुपये का सामान मलबे में दब गया। दुर्घटना के समय परिवार के सदस्य दूसरे कमरे में थे। इन्होंने कहा..

सोमवार को भी बादलों की आवाजाही रहेगी। कहीं-कहीं बूंदाबांदी या हल्की बारिश हो सकती है। मंगलवार से मौसम सामान्य होने, न्यूनतम तापमान में गिरावट आने तथा कोहरा छाने की संभावना है।

- जेपी गुप्ता, निदेशक मौसम विभाग

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept