भारत बंद का रहा मिलाजुला असर, यात्रियों को झेलनी पड़ी परेशानी

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर तीनों कृषि कानून के विरोध में भारत बंद का सोमवार को मिला-जुला असर रहा। किसानों ने राष्ट्रीय व राज्य मार्गो पर जाम लगाया और धरना-प्रदर्शन किया। रोहाना और छपार टोल पर भी किसानों ने जाम लगाया। हाइवे पर जाम में यात्री फंसे रहे। लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वाहनों की लंबी कतारें लगी रहीं। मंसूरपुर में महिला यात्रियों के वाहन को रोका गया। भारत बंद में भाकियू व रालोद कार्यकर्ताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस पूरे दिन गश्त करती रही।

JagranPublish: Mon, 27 Sep 2021 10:32 PM (IST)Updated: Mon, 27 Sep 2021 10:32 PM (IST)
भारत बंद का रहा मिलाजुला असर, यात्रियों को झेलनी पड़ी परेशानी

जेएनएन, मुजफ्फरनगर। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर तीनों कृषि कानून के विरोध में भारत बंद का सोमवार को मिला-जुला असर रहा। किसानों ने राष्ट्रीय व राज्य मार्गो पर जाम लगाया और धरना-प्रदर्शन किया। रोहाना और छपार टोल पर भी किसानों ने जाम लगाया। हाइवे पर जाम में यात्री फंसे रहे। लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वाहनों की लंबी कतारें लगी रहीं। मंसूरपुर में महिला यात्रियों के वाहन को रोका गया। भारत बंद में भाकियू व रालोद कार्यकर्ताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस पूरे दिन गश्त करती रही। जानसठ : कस्बा व देहात में भारत बंद बेअसर रहा। रोजाना की तरह बाजार खुले रहे। स्कूल-कालेज खुले रहे, लेकिन बच्चों की संख्या कम रही। सड़क पर जाम के कारण कारण बसों का संचालन कम हो सका। बुढ़ाना : भाकियू कार्यकर्ताओं ने मेरठ-करनाल हाईवे पर बायवाला चौक व फुगाना गांव में जाम लगाया। भाकियू सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। राहगीरों व यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। धरने व जाम को रालोद नेता व पूर्व मंत्री योगराज सिंह, राजपाल बालियान, पूर्व ब्लाक प्रमुख विनोद मलिक के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने समर्थन दिया। चरथावल : भाकियू नेता विकास शर्मा व कुशलवीर के नेतृत्व में नहर पुल पर जाम लगाकर धरना-प्रदर्शन किया। महिला के शव, एंबुलेंस व स्कूली छात्र-छात्राओं के वाहनों को न निकलने देने के मामले में भाकियू कार्यकर्ता दो गुटों में बंटे नजर आए। जाम स्थल पर दरांती लिए युवक को पुलिस के हिरासत में लेने पर थाना प्रभारी की भाकियू नेताओं से झड़प भी हुई। तितावी : भाकियू युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव टिकैत और रालोद युवा जिलाध्यक्ष विदित मलिक के नेतृत्व में सैकड़ों किसान लालूखेड़ी स्टैंड पर पहुंचे और हाइवे जाम कर धरना दिया। विदित मलिक ने कहा कि सरकार किसानों की ओर ध्यान नहीं दे रही है। किसान आगामी चुनाव में वोट की चोट से सरकार को जवाब देंगे। पुरकाजी : बा•ारों में भारत बंद बेअसर रहा। भाकियू व रालोद कार्यकर्ताओं ने नेशनल हाईवे जाम किया। पुलिस ने यूपी-उत्तराखंड की सीमा, फलौदा कट, नहर पटरी आदि जगहों पर ट्रैफ़कि व्यवस्था को कंट्रोल किया। उत्तराखंड की ओर से आने वाले वाहनों को लिक मार्गो से निकाला। जाम के कारण कई जगह पर वाहनों की कतारें लगी रहीं। छपार : भाकियू ने सोमवार को भारत बंद के चलते दिल्ली-देहरादून राष्ट्रीय राजमार्ग-58 स्थित छपार टोल प्लाजा, रोहाना टोल प्लाजा व रामपुर तिराहा पर हाईवे जाम कर धरना-प्रदर्शन किया। राकेश टिकैत के पुत्र चरण सिंह टिकैत ने कहा कि सरकार लोगों को जातिवाद में बांटना चाहती है। इक्का-दुक्का वाहनों को बिना टोल के निकलवाया। तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। तहसीलदार को ज्ञापन सौपनें को लेकर पुरकाजी ब्लाक के एक पदाधिकारी व कार्यकर्ता आपस में ही भिड़ गए। मोरना : कस्बे में भाकियू के योगेश शर्मा, विकास चौधरी, सर्वेद्र राठी, पुष्पेंद्र प्रधान, चंद्रवीर राठी, पंकज, पुष्पेंद्र व रालोद के जिलाध्यक्ष प्रभात तोमर, अमित ठाकरान, मनोज राठी, कैप्टन ज्ञानेंद्र सिंह, धीर सिंह आदि सैकड़ों कार्यकर्ता ट्रैक्टर-ट्राली से चौधरी चरण सिंह चौक पर पहुंचे। केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरना प्रदर्शन किया। सड़क पर जाम लगाया। मीरापुर : भाकियू कार्यकर्ताओं ने पानीपत-खटीमा व मेरठ-पौड़ी राजमार्ग स्थित मोंटी तिराहे पर जाम जाम लगाया। लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ा। बाजार खुले रहे। शाहपुर : कस्बा में मंसूरपुर तिराहा, काकड़ा व बरवाला गेट पर भाकियू कार्यकर्ताओं ने जाम लगाकर प्रदर्शन किया। सरकार के विरुद्ध नारेबाजी की। दस सूत्रीय मांग-पत्र थाना प्रभारी को सौंपा।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept