श्रमिकों के प्रति फिक्रमंद है सरकार : भराला

उप्र श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि भाजपा सरकार श्रमिकों की हितैषी है। श्रमिकों को कल्याणकारी योजनाओं के जरिए लाभ पहुंचाया जा रहा है। श्रमिकों के बच्चों को प्राथमिक से उच्च शिक्षा तक दिलाया जा रहा है।

JagranPublish: Wed, 08 Dec 2021 12:04 AM (IST)Updated: Wed, 08 Dec 2021 12:04 AM (IST)
श्रमिकों के प्रति फिक्रमंद है सरकार : भराला

मुजफ्फरनगर, टीम जागरण। उप्र श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि भाजपा सरकार श्रमिकों की हितैषी है। श्रमिकों को कल्याणकारी योजनाओं के जरिए लाभ पहुंचाया जा रहा है। श्रमिकों के बच्चों को प्राथमिक से उच्च शिक्षा तक दिलाया जा रहा है।

पीडब्लूडी के डाक बंगले पर पत्रकार वार्ता में सुनील भराला ने कहा कि श्रमिकों के लिए सरकार ने खजाने का मुंह खोल रखा है। श्रमिकों के बीमार होने पर इलाज का इंतजाम किया जा रहा है। कहा कि कि गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार योजना के तहत हाईस्कूल, इंटरमीडिएट, स्नातक, परास्नातक की परीक्षा 60 प्रतिशत या इससे अधिक अंक पाने वाले अभ्यर्थी को तीन हजार रुपये प्रति अभ्यर्थी एक मुश्त, 75 प्रतिशत या इससे अधिक अंक पाने वाले अभ्यर्थी को पांच हजार प्रति अभ्यर्थी एक मुश्त दिया जाएगा। राजा हरिश्चंद्र मृतक आर्थिक सहायता योजना के तहत 15 हजार प्रति अभ्यर्थी एकमुश्त और ज्योतिबा फुले कन्यादान योजना के तहत 15 हजार प्रति अभ्यर्थी एकमुश्त दिया जाएगा। पूर्व राज्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक हुई, जिसमें श्रम विभाग में संचालित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की गई। इसके बाद वह गांधीनगर स्थित भाजपा नेता पुनीत वशिष्ठ के आवास पर पहुंचे। बैठक में सहायक श्रमायुक्त डा. प्रतिभा तिवारी, श्रम प्रवर्तन अधिकारी, उप सहायक निदेशक कारखाना, जीएसटी अधिकारी, जिला क्रीड़ा अधिकारी समेत आइआइए के अध्यक्ष कुश पुरी, भाजपा नेता पुनीत वशिष्ठ, दि गुड़ खांडसारी एंड ग्रेन मर्चेट एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय मित्तल आदि मौजूद रहे। पाल समाज ने मांगी राजनीतिक हिस्सेदारी

मुजफ्फरनगर, टीम जागरण। विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच पाल समाज ने राजनीतिक हिस्सेदारी की मांग की है। मंगलवार को मेरठ रोड स्थित रेस्टोरेंट में पत्रकार वार्ता में राजनीतिक हिस्सेदारी टीम के अध्यक्ष मदन पाल ने बताया कि पाल (गड़रिया) समाज आने वाले विधानसभा चुनाव में उस पार्टी को समर्थन देगा, जो बिरादरी को सम्मान देगा। समाज के प्रतिनिधियों को चुनाव लड़ने का मौका दिया जाए। जिले में हर विधानसभा सीट पर बड़ी संख्या में पाल समाज का वोटर है। ऐसे में पाल समाज के लोगों को राजनीतिक दल टिकट दें। इस दौरान रमेश पाल, गुलजारी पाल, कैलाश पाल व अमित पाल आदि मौजूद रहे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept